×

Ujjwala Yojana 2.0: सीएम योगी बोले- यूपी में 1.47 करोड़ से अधिक परिवारों को रसोई गैस कनेक्शन उपलब्ध कराये गये

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना’ योजना के अन्तर्गत प्रदेश में सर्वाधिक 1.47 करोड़ से अधिक निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन गरीब एवं जरूरतमन्द परिवारों को उपलब्ध कराये गये हैं।

Shreedhar Agnihotri
Written By Shreedhar AgnihotriPublished By Ashiki
Published on: 25 Aug 2021 2:18 PM GMT
Chief Minister Yogi Adityanath
X

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना' योजना के अन्तर्गत प्रदेश में सर्वाधिक 1.47 करोड़ से अधिक निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन गरीब एवं जरूरतमन्द परिवारों को उपलब्ध कराये गये हैं। उन्होंने कहा कि गरीब परिवारों को निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन प्राप्त होने से उनके जीवन स्तर में व्यापक परिवर्तन आया है। रसोई गैस कनेक्शन की उपलब्धता महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कड़ी भी है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यहां अपने सरकारी आवास पर आयोजित एक कार्यक्रम में 'प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना' के द्वितीय चरण में निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन प्राप्त करने वाली 10 जनपदों की लाभार्थियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद किया।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के दौरान सोनाली राठौर, रेखा देवी (हरदोई), शबाना, रजनी (फर्रुखाबाद) श्रीमती गीता, अर्चना (अमेठी), रोशनी, प्रियंका (चित्रकूट), प्रीती साहू, साफिया (बांदा), रानी (सोनभद्र), शिव दुलारी, आमीना (रायबरेली), कल्पना, खुशबू गुप्ता (महोबा), रीना (बदायूं), सरिता देवी (फतेहपुर) से संवाद किया। उन्होंने कहा कि स्वच्छ ईंधन का अर्थ स्वास्थ्य के लिए उत्तम ईंधन है। रसोई गैस एक स्वच्छ ईंधन है। इसके उपयोग से महिलाओं को भोजन बनाने में सहूलियत होगी, समय की बचत होगी। साथ ही, लकड़ी, कोयले, उपलों आदि के धुएं से होने वाली आंख एवं फेफड़े की बीमारियों से बचाव भी होगा। रसोई गैस के प्रयोग से पेड़ों की कटान कम होगी, जिससे पर्यावरण भी बेहतर होगा।

उन्होंने कहा कि द्वितीय चरण के तहत देश में कुल एक करोड़ निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन गरीब एवं जरूरतमन्द परिवारों को प्रदान किये जाएंगे। 'प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना' के द्वितीय चरण हेतु प्रदेश के 10 जिलों सोनभद्र, बांदा, महोबा, चित्रकूट, रायबरेली, हरदोई, बदायूं, अमेठी, फतेहपुर एवं फर्रूखाबाद का चयन किया गया है। इन जनपदों की 20 लाख लाभार्थियों को 'प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना' के द्वितीय चरण में निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन प्रदान किये जाएंगे।

उन्होंने कहा कि योजना के इस चरण में उन प्रवासी श्रमिकों के लिए विशेष प्राविधान किये गये हैं, जो 'प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना' के प्रथम चरण में पते के प्रमाण के अभाव में योजना का लाभ प्राप्त करने से वंचित रह गये थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 'प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना' का शुभारम्भ एक मई, 2016 को प्रदेश के बलिया से किया गया था। योजना के अन्तर्गत मार्च, 2020 तक 08 करोड़ वंचित परिवारों को निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन दिये जाने का लक्ष्य था।

इस लक्ष्य को तय सीमा से सात महीने पूर्व सितम्बर, 2019 में प्राप्त कर लिया गया। इसके पूर्व, महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा एवं आत्मसम्मान की रक्षा के दृष्टिगत स्वच्छ भारत मिशन के तहत प्रदेश में 2.61 करोड़ व्यक्तिगत शौचालयों का निर्माण कराया गया। महिला सशक्तिकरण की दिशा में प्रदेश की प्रत्येक ग्राम पंचायत में बी0सी0 सखी के रूप में एक महिला का चयन किया जाना महत्वपूर्ण कदम है। सामुदायिक शौचालयों की देखरेख का दायित्व महिला स्वयं सहायता समूहों को दिया जा रहा है। सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानों के संचालन से भी महिला स्वयं सहायता समूहों को जोड़ा जा रहा है। 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना', 'जननी सुरक्षा योजना', 'प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना', 'सौभाग्य योजना' आदि के माध्यम से महिला सशक्तिकरण के प्रयासों को प्रभावी ढंग से आगे बढ़ाया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2014 से पूर्व रसोई गैस कनेक्शन एवं सिलेण्डर की रीफिल प्राप्त करने में बड़ी असुविधा होती थी। योजना के तहत पात्र लाभार्थियों को बिना किसी भेदभाव के निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन दिया जा रहा है। गरीब परिवारों को निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन केन्द्र व राज्य सरकार की दृढ़ इच्छाशक्ति तथा जनप्रतिनिधिगण के निरन्तर सहयोग से उपलब्ध कराना सम्भव हुआ है।

Ashiki

Ashiki

Next Story