×

प्रज्ञानंद ऐसे फकीर थे जो दिल से अमीर थे: चिदानन्द

इस अवसर पर परमार्थ निकेतन शिविर में दिनेश शाहरा, सुरेश शाहरा, नितेश शाहरा, सर्वेश शाहरा, मृदुला शाहरा, माधुरी शाहरा, महेश भागचन्द्रका, हर्ष भागचन्द्रका, सुनीता भागचन्द्रका, अमीशा शाहरा, हरीश कोलवाल, नरेद्र शाह, अरविन्द्र अग्रवाल, सन्ध्या खन्डेलवाल, अलका गुप्ता, और अन्य गणमान्य अतिथि मौजूद रहे। 

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 11 Feb 2019 2:14 PM GMT

प्रज्ञानंद ऐसे फकीर थे जो दिल से अमीर थे: चिदानन्द
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

आशीष पाण्डेय,

कुंभ नगर: परमार्थ निकेतन शिविर अरैल क्षेत्र, सेक्टर 18 में देश की सम्भ्रांत हस्तियों ने एकत्र होकर संत प्रज्ञाननन्द के जीवन,

सत्संग, सान्निध्य और संस्मरण पर आधारित दिनेश सहारा द्वारा रचित पुस्तक सिम्पलिसिटी एण्ड विसडम का विमोचन किया। दिनेश शाहरा ने छः वर्षो के अथक प्रयासों के पश्चात इस कृति की रचना की।

ये भी पढ़ें— पीएम मोदी के ट्वीट पर अखिलेश का तंज, कहा- ‘ये दूसरों की थाली पर हक जमाने वाले लोग’

विमोचन अवसर पर पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी , स्वामी चिदानन्द सरस्वती, अनुराग शास्त्री, अनूप जलोटा, निर्वतमान न्यायमूर्ति एवं कुलाधिपति बनारस विश्वविद्यालय गिरिधर मालवीय, निर्वतमान न्यायमूर्ति अरूण टण्डन , जस्टिस उमेश सिरोही , साध्वी भगवती सरस्वती, मोहन, उत्तराखण्ड न्यायमूर्ति राजेश तिवारी सहित पुलिस महानिदेशक सत्यनारायण संवत , मेला एसडीएम सेक्टर 18 आलोक कुमार गुप्ता समेत कई गणमान्य न्यायाधीश एवं न्यायमूर्तियों ने सहभाग किया|

ये भी पढ़ें— यहां किसान क्यों अपने ही फसल को लगा रहे आग, ये है वजह

परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि पूज्य स्वामी प्रज्ञाननन्द वास्तव में एक ऐसे फकीर थे जो दिल से अमीर थे। सादगी, सरलता और सात्विकता के प्रतीक थे। उनका जीवन भारतीय संस्कृति का जीता जागता उदाहरण था। वे आचार, विचार और व्यवहार से पूर्ण संत थे। दिनेश शाहरा द्वारा रचित सिम्पलिसिटी एण्ड विसडम के उद्घाटन अवसर अपने

विचार व्यक्त करते हुये कहा कि आप जो दुनिया से अपेक्षा करते हो वह दुनिया को देना सीखें, यही भारतीय संस्कृति है। साथ ही अपनी योग्यता को बढ़ाओ तो सफलता सदा आपके कदम चूमेगी। उन्होने कहा कि सरलता से जीवन को सुखमय बनाना, प्रकृति को आत्मसात कर जीवन जीना ही, सच्ची जीवन पद्धति है।

ये भी पढ़ें— सोनभद्र: सरकार की ई-टेंडरिंग नीति से खनन व्यवसायी नाखुश

इस अवसर पर परमार्थ निकेतन शिविर में दिनेश शाहरा, सुरेश शाहरा, नितेश शाहरा, सर्वेश शाहरा, मृदुला शाहरा, माधुरी शाहरा, महेश भागचन्द्रका, हर्ष भागचन्द्रका, सुनीता भागचन्द्रका, अमीशा शाहरा, हरीश कोलवाल, नरेद्र शाह, अरविन्द्र अग्रवाल, सन्ध्या खन्डेलवाल, अलका गुप्ता, और अन्य गणमान्य अतिथि मौजूद रहे।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story