×

स्नानार्थियों से भरी नाव संगम में पलटी, एनडीआरएफ ने रेस्क्यू कर बचाया

कुंभ नगर में संगम में शनिवार को एक बड़ा हादसा होते होते टल गया। संगम में स्नान के बाद स्नानार्थियों को वापस लेकर लौट रही नाव की दूसरी नाव से टक्कर होने पर पलट गई। जिसमें नाव में सवाल आठ श्रद्धालु संगम में डूबने लगे। यह देख दोनो ही नाव के चालक भाग निकले।

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 2 Feb 2019 8:05 AM GMT

स्नानार्थियों से भरी नाव संगम में पलटी, एनडीआरएफ ने रेस्क्यू कर बचाया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

आशीष पाण्डेय

कुंभ नगर: कुंभ नगर में संगम में शनिवार को एक बड़ा हादसा होते होते टल गया। संगम में स्नान के बाद स्नानार्थियों को वापस लेकर लौट रही नाव की दूसरी नाव से टक्कर होने पर पलट गई। जिसमें नाव में सवाल आठ श्रद्धालु संगम में डूबने लगे। यह देख दोनो ही नाव के चालक भाग निकले। तभी चीख पुकार सुन एनडीआरफ की टीम हरकत में आई और कड़ी मशक्कत कर सभी को रेस्क्यू कर बाहर निकलाया और घायलों को वाटर एम्बुलेंस से बाहर भेजा जहां से उन्हें एम्बुलेंस की मदद से कुंभ नगर के सेक्टर 2 स्थित केंद्रीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनका इलाज चल रहा है। दो लोग गंभीर हैं।

कन्हैया लाल शर्मा निवासी दांदोपुर पड़रौना जिला कुशीनगर ने बताया कि वह दो दि पूर्व ट्रेन से अपने गांव के दर्जनों लोगों के साथ कुंभ स्नान को आए हैं और सेक्टर 11 स्थित लाल चंद्र पण्डा के यहां ठहरे हैं। शनिवार को सुबह वह अपनी पत्नी विद्यावती देवी, सुभाष सिंह, रवि प्रताप सिंह व उनकी पत्नी , इन्दु देवी व उनके पति लक्ष्मण प्रसाद खरवार, वीरन , उनकी पत्नी व बेटी, रत्नाकर शर्मा पुत्र कन्हैया शमा, कु. प्रियंका शर्मा पुत्री कन्हैया शर्मा, सत्यनारायण सिंह, गुड्डू सिंह, संदीप शर्मा पुत्र वीरन शर्मा एवं वीरन शर्मा सहित कुल 16 लोग सुबह दो नाव पर सवार होकर संगम गए थे।

सभी ने लाइव जैकेट पहन रखी थी लेकिन जैकेट कम होने के कारण कन्हैया शर्मा को जैकेट नहीं मिल सकी। सभी संगम में स्नान किया लेकिन लगभग 11:30 बजे जब वापस लौट रहे थे तो उनकी नाव बगल में खड़ी नाव से टकराते हुए निकल रही थी कि अचानक तेज टकराव होने पर बीच संगम में नाव पलट गई और उस पर सवार कन्हैया शर्मा, विद्यावती, सुभाष सिंह, रवि प्रताप सिंह व उनकी पत्नि, इन्दु देवी पत्नि लक्ष्मण प्रसाद खरवार, वीरन की पुत्री व पत्नी डूबने लगे।

यह भी पढें....कुंभ: 600 रू मजदूरी- सफाई कर्मियों ने मेला प्राधिकरण कार्यालय पर दिया धरना

घटना के दौरान मची चीख पुकार को देख वहां मौजूद एनडीआरएफ की टीम हरकत में आ गई और रेस्क्यू कर सभी को बचा लिया लेकिन विद्यावती गायब थी। जिनका लाइव जैकेट पानी में दिखते ही एनडीआरएफ टीम ने 25 मीटर दूर बह रही विद्यावती को बचा लिया।

घायलों को पहले वाटर एम्बुलेंस फिर एम्बुलेंस गाड़ी से उन्हें अस्पताल भेजा गया

एनडीआरफ की रेस्क्यू टीम ने रेस्क्यू कर बचाए गए आठ लोगों को वाटर एम्बुलेंस से बाहर भेजा जहां पर खड़ी एम्बुलेंस की मदद से सभी को सेक्टर 2 स्थित केंद्रीय अस्पताल में भेजा गया जहां घायलों का इलाज किया गया। जबकि विद्यावती व इन्दु देवी गंभीर हो गई। जिनका इलाज चल रहा है।

यह भी पढें.....कुंभ-2019: दूसरे शाही स्नान में श्रद्धालुओं के लिए चलेंगी 5500 बसें

घटना के बाद से सामान लापता

घटना के बाद चश्मदीद कन्हैया लाल शर्मा ने बताया कि नाव में सवार सभी लोगों के मोबाइल, बैग, कपड़े व अन्य सामान भी गायब हो गया है। जिसके कारण परेशानी हो रही है।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story