×

Mother's Day 2022: ना सुन सकती है ना बोल सकती है, फिर भी ऐसे संभाल रही घर को एक मां, बनी मिसाल

Mother's Day 2022: बहादुरगंज इलाके की रहने वाली नसीमा बेगम हर माँ या कहे के महिला के लिए एक मिसाल बनी हुई है।

Syed Raza
Published on 8 May 2022 5:47 AM GMT
Mother’s Day 2022
X

नसीमा बेगम (photo: social media ) 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Prayagraj News: ये सिद्ध हो गया है कि मां की ममता अद्भुत,अकल्पनीय और तुलना रहित होती है। मां इस संसार में जननी के रूप में जानी जाती है, जो अपने प्यार,वात्सल्य और दूध से एक शरीर का निर्माण करती है। पूरे देश में आज मातृ दिवस है मतलब मदर्स डे है। इसी कड़ी में संगम शहर प्रयागराज से अनोखी तस्वीर देखने को मिल रही है।

बहादुरगंज इलाके की रहने वाली नसीमा बेगम हर माँ या कहे के महिला के लिए एक मिसाल बनी हुई है। नसीमा बेगम जन्म से ही मूक बधिर है मतलब ना तो वह सुन सकती हैं और ना ही बोल सकती हैं। नसीमा बेगम के तीन बच्चे हैं जिसमें दो बेटी एक बेटा है। खास बात यह है कि नसीमा बेगम मूक बधिर होने के बावजूद भी उन्होंने अपने परिवार को इस तरीके से संभाला है जिस तरीके से एक साधारण महिला संभालती है।

नसीमा बेगम के पति (फोटो: सोशल मीडिया )

प्रयागराज के बहादुरगंज इलाके के रहने वाले इरशाद उल्ला का घर लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत बना हुआ है । इरशाद उल्ला की पत्नी नसीमा बेगम ने वह मिसाल कायम की है जिसके चर्चे शहर के कई क्षेत्रों में है । नसीमा बेगम मूकबधिर होने के बावजूद भी अपने परिवार को ऐसा सजो के रखा है जैसे उनको कोई तकलीफ ही ना हो। जन्म से ही नसीमा बेगम ना तो सुन सकती है और ना ही देख सकती हैं । इसके बावजूद भी सन 2001 में उनकी शादी इरशाद उल्ला से हुई ।

नसीमा बेगम का परिवार (फोटो: सोशल मीडिया )

नसीमा बेगम के तीन बच्चे

शादी के 1 साल के बाद उन्होंने बेटी को जन्म दिया । नसीमा बेगम के अब तीन बच्चे हैं जो इशारों से अपनी मां से बात करते हैं और उनके इशारों को ही समझ कर घर के काम में हाथ बटाते हैं । आज मदर्स डे के मौके पर उनकी बेटियां अपनी मां को बधाई दे रही हैं और उनके हर एक पल को याद करके खुशियां बांट रही है। उनकी बेटी अलीना और अलीशा का कहना है कि वह इस दुनिया की सबसे बेस्ट मां है । वह चाहती हैं कि उनकी मां को हमेशा सब खुश रखे।

सुन और बोल नहीं सकती नसीमा बेगम

उधर नसीमा बेगम के पति इरशाद उल्ला का कहना है कि 2001 में जब उनको पता चला कि उनकी शादी एक ऐसी महिला से हो रही है जो सुन और बोल नहीं सकती हैं तो उनको थोड़ी तकलीफ तो हुई लेकिन उन्हें यह ठान लिया कि हर हाल में वह नसीमा बेगम से ही निकाह करेंगे। इरशाद उल्ला का कहना है कि वह बेहद खुश हैं क्योंकि नसीमा बेगम पत्नी के साथ साथ एक अच्छी माँ का भी किरदार अदा कर रही हैं।

गौरतलब है कि नसीमा बेगम उन महिलाओं में शामिल है जिन्होंने मुश्किल दौर को मुस्कुराते हुए बिताया है। बेटी से लेकर माँ बनने तक के सफर को नसीमा बेगम ने बखूबी निभाया है। अब उनके पति इरशाद उल्ला और उनके बच्चे जमकर सराहना कर रहे हैं। हालांकि समाज को नसीमा बेगम से बहुत सीखना होगा क्योंकि आज के दौर में लोग थोड़ी सी परेशानी में ही टूट जाते हैं।

Monika

Monika

Next Story