×

ODOP: IGP में मुख्य कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे राष्ट्रपति, गवर्नर-सीएम मौजूद

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 10 Aug 2018 5:50 AM GMT

ODOP: IGP में मुख्य कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे राष्ट्रपति, गवर्नर-सीएम मौजूद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में निवेश को लेकर हाल ही में संपन्न हुई ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी से उत्साहित राज्य सरकार ने 'एक जनपद-एक उत्पाद' (ओडीओपी) समिट की तैयारी जोरदार ढंग से की है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शुक्रवार को इसका उदघाटन करने के लिए राजधानी लखनऊ पहुंच गए हैं। राष्ट्रपति समिट में भाग लेने के लिए इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान पहुंच चुके हैं।

यह भी पढ़ें: आज ओडीओपी समिट में शामिल होंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

इस दौरान राज्यपाल राम नाईक एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे। लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग की ओर से पहली बार 'एक जनपद-एक उत्पाद' (ओडीओपी) समिट का आयोजन बड़े पैमाने पर किया जा रहा है। इस दौरान लाभार्थियों को ऋण पत्र और टूल किट भी वितरित किया जाएगा।

इस मौके पर अमेजन, क्वालिटी कंट्रोल ऑफ इंडिया (क्यूसीआई), नेशनल स्टॉक एक्सचेंज, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और हेल्थकेयर के प्रतिनिधियों व राज्य सरकार के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर भी किए जाएंगे। समिट को राष्ट्रपति के अलावा राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, लघु उद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी भी संबोधित करेंगे।

राष्ट्रपति सबसे पहले प्रदेश के सभी 75 जिलों से संबंधित प्रमुख उत्पादों की प्रदर्शनी देखेंगे। वे वहां मौजूद उद्यमियों से बातचीत भी करेंगे। राष्ट्रपति ओडीओपी कॉफी टेबल बुक के विमोचन के साथ-साथ ओडीओपी की वेबसाइट व टोल फ्री नंबर भी शुरू करेंगे।

समिट में राज्य सरकार की ओर से 4,084 लाभार्थियों को 1,000 करोड़ रुपये का ऋण वितरित किया जाएगा। सरकार ने हर साल एक लाख लोगों को ओडीओपी योजना से जोड़ने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

यूपी सरकार के मंत्री सत्यदेव पचौरी ने बताया कि यूपी पहला ऐसा प्रदेश है जो ओडीओपी के माध्यम से लोगों को उनके घर में ही रोजगार उपलब्ध कराने के लिए परंपरागत कुटीर उद्योगों को बढ़ावा दे रहा है। प्रदेश में इस समय 8,900 करोड़ रुपये के उत्पाद का ही निर्यात होता है जिसे बढ़ाकर 2 लाख करोड़ करने का लक्ष्य रखा गया है।

--आईएएनएस

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story