×

राष्ट्रपति मुर्मू ने बाबा विश्वनाथ और कालभैरव मंदिर में किया दर्शन, मां गंगा की आरती में लिया हिस्सा

President Murmu in Varanasi: कालभैरव मंदिर के राष्ट्रपति का काफिला श्री काशी विश्वनाथ धाम पहुंचा। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के स्वागत के लिए विश्वनाथ धाम में के प्रवेश द्वार से गर्भगृह तक रेड कारपेट बिछाई गई थी।

Anshuman Tiwari
Published on: 13 Feb 2023 2:27 PM GMT
President draupadi murmu in varanasi
X

President Draupadi Murmu in Varanas (Image: Social Media)

President Murmu in Varanasi: राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू आज बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी के दौरे पर पहुंचीं। राष्ट्रपति बनने के बाद मुर्मू का यह पहला काशी दौरा था। काशी में अपने व्यस्त कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रपति मुर्मू ने काशी के कोतवाल कालभैरव के मंदिर में विशेष पूजा अर्चना की। इसके बाद राष्ट्रपति बाबा विश्वनाथ का दर्शन करने के लिए पहुंचीं। बाबा विश्वनाथ की पूरे विधिविधान से पूजा-अर्चना के बाद राष्ट्रपति मुर्मू ने दशाश्वमेध घाट पर मां गंगा की आरती में भी हिस्सा लिया। पूजा-अर्चना में राष्ट्रपति के साथ उनकी बेटी ने भी हिस्सा लिया। राष्ट्रपति के दौरे के मद्देनजर काशी में चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी।


राष्ट्रपति के सभी कार्यक्रमों में उनके साथ प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे। इससे पूर्व काशी पहुंचने पर बाबतपुर एयरपोर्ट पर राष्ट्रपति का भव्य स्वागत किया गया। राष्ट्रपति का स्वागत करने के लिए प्रदेश की राज्यपाल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ प्रदेश सरकार के कई मंत्री और वरिष्ठ प्रशासनिक व पुलिस अफसर मौजूद थे।


काल भैरव मंदिर में की विशेष पूजा

राष्ट्रपति के दौरे के मद्देनजर काशी में भव्य व्यवस्था की गई थी। राष्ट्रपति के करीब चार घंटे के काशी प्रवास के हर कार्यक्रम में उनका जोरदार स्वागत किया गया। विशेष विमान से बाबतपुर एयरपोर्ट पहुंचने के बाद राष्ट्रपति का काफिला सीधे कालभैरव मंदिर पर पहुंचा। कालभैरव मंदिर में राष्ट्रपति ने अपनी बेटी के साथ विशेष पूजा-अर्चना की।

इस दौरान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी राष्ट्रपति के साथ मौजूद थे। दर्शन के बाद मंदिर प्रशासन की ओर से राष्ट्रपति को स्मृति चिन्ह और प्रसाद भेंट किया गया। राष्ट्रपति ने दर्शन के बाद बंद लिफाफे में मंदिर के लिए गुप्त दान भी दिया। कालभैरव मंदिर के लिए संकरा रास्ता होने के कारण यहां पर सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गई थी।


बाबा विश्वनाथ का किया दर्शन

कालभैरव मंदिर के राष्ट्रपति का काफिला श्री काशी विश्वनाथ धाम पहुंचा। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के स्वागत के लिए विश्वनाथ धाम में के प्रवेश द्वार से गर्भगृह तक रेड कारपेट बिछाई गई थी। राष्ट्रपति मुर्मू ने मंदिर के गर्भगृह में बैठकर बाबा विश्वनाथ की विशेष पूजा-अर्चना की। इस पूजा के दौरान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे। राष्ट्रपति के साथ उनकी बेटी ने भी बाबा विश्वनाथ की विशेष पूजा-अर्चना में हिस्सा लिया।

ज्ञानवापी मार्ग से बाबा के गर्भगृह तक डमरु की निनाद,शंख ध्वनि और वैदिक मंत्रोच्चार से राष्ट्रपति का जोरदार स्वागत किया गया। बाबा विश्वनाथ का पूरे विधिविधान से दर्शन-पूजन करने के बाद राष्ट्रपति को मंदिर प्रशासन की ओर से प्रसाद भेंट किया गया। राष्ट्रपति ने मंदिर आने-जाने के दौरान रास्ते में मौजूद सभी लोगों का अभिवादन स्वीकार किया।


मां गंगा की विशेष आरती में लिया हिस्सा

बाबा विश्वनाथ का दर्शन करने के बाद राष्ट्रपति मुर्मू दशाश्वमेध घाट पर पहुंचीं और उन्होंने मां गंगा की विशेष आरती में हिस्सा लिया। इस दौरान राष्ट्रपति ने भी मां गंगा की विशेष पूजा की। गंगा आरती के दौरान आज दशाश्वमेध घाट पर भी विशेष व्यवस्था की गई थी। पूरा घाट आज घंटा-घड़ियाल से गूंज उठा। गंगा सेवा निधि के नौ अर्चकों ने आरती की जबकि 21 कन्याओं ने मां गंगा को चंवर डुलाया। राष्ट्रपति के दौरे के मद्देनजर घाट पर दीपों से भव्य सजावट का इंतजाम भी किया गया था। राष्ट्रपति के दौरे के समय गंगा घाट पर दीपों की जगमगाहट से देव दीपावली जैसा नजारा दिखा। राष्ट्रपति मुर्मू के लिए गंगा घाट पर विशेष मंच बनाया गया था।


काशी में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

राष्ट्रपति के दौरे के मद्देनजर आज काशी में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। जिन मार्गों पर राष्ट्रपति को जाना था,उन पर पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई थी। दोपहर 12 बजे से ही गंगा के 84 घाटों और उसके आसपास नौकायन पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया गया था। पूरे शहर की यातायात व्यवस्था में भी बदलाव किया गया था और कई इलाकों में रूट डायवर्जन किया गया। गोदौलिया से दशाश्वमेध घाट तक का पूरा क्षेत्र नो व्हीकल जोन घोषित किया गया था। कार्यक्रम की समाप्ति के बाद शहर के कई इलाकों में देर तक जाम जैसी स्थिति बनी रही।

Rakesh Mishra

Rakesh Mishra

Next Story