×

मथुरा जेल में कैदी ने की आत्महत्या: दहेज हत्या के मामले में बंद था कैदी, शव को भेजा पोस्टमार्टम हाउस

मथुरा जेल में कैदी ने की आत्महत्या: दहेज हत्या के मामले में बंद कैदी ने मथुरा जिला जेल में बैरक के पास बने बाथरूम के पीछे जा कर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

Nitin Gautam
Updated on: 4 July 2022 4:06 PM GMT
Prisoner commits suicide in Mathura jail: Prisoner was lodged in dowry murder case, body sent to postmortem house
X

मथुरा: जेल में कैदी ने की आत्महत्या

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Mathura News: मथुरा जिला जेल में कैदी के फांसी लगाकर आत्महत्या (Prisoner commits suicide in Mathura jail) करने का मामला सामने आया है। यहां दहेज हत्या के मामले में बंद कैदी ने बैरक के पास बने बाथरूम के पीछे जा कर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। जेल पुलिस मामले की जानकारी मिलते ही कैदी को जिला अस्पताल लेकर पहुंची जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

दहेज हत्या के मामले में बंद था मृतक

बल्देव के मंडौरा गांव निवासी हरिसिंह पुत्र धर्मसिंह उम्र 56 वर्ष अपने बेटे की पत्नी की दहेज हत्या के मामले में मई 2021 से जिला कारागार में बंद था। इस मामले में हरिसिंह की पत्नी रामरती और बेटा नीरज भी बंद है।

बैरक नंबर 7,8 के पीछे की आत्महत्या

हरिसिंह मथुरा जेल में मई 2021 से बंद था। सोमवार को हरिसिंह ने दहेज हत्या के मामले में राहत न मिलने से आहत हो कर बैरक नंबर 7,8 के पास बने बाथरूम के पीछे गया और वहां उसने कपड़े से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। हरिसिंह के द्वारा आत्महत्या कर लिए जाने की जानकारी मिलते ही जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। हरिसिंह को आनन फानन में फांसी के फंदे से उतारकर जिला अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

अवसाद से ग्रस्त था हरिसिंह

हरिसिंह उसकी पत्नी और बेटा दहेज हत्या के मामले में जिला जेल में बंद था। दहेज हत्या के मामले में न तो वादी पक्ष से कोई राहत मिल पा रही थी और न ही कोर्ट में चल रहे केस में। इसी अवसाद से ग्रस्त हो कर हरिसिंह ने फांसी लगा ली।

जेल प्रशासन ने शव को भेजा पोस्टमार्टम के लिए

जिला अस्पताल में डॉक्टर द्वारा मृत घोषित किए जाने के बाद जेल पुलिस (jail police) ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। जेल अधीक्षक ब्रजेश कुमार ने बताया कि हरिसिंह 23 मई 2021 से जिला कारागार में निरुद्ध था। सोमवार को हरिसिंह की बेटी से भी बात हुई थी। जिसमें उन्होंने केस में राहत न मिलने की बात कही। इसी के बाद वह दोपहर में बाथरूम के पीछे गए और फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story