×

सीएए पर जंग! अब लखनऊ में पुलिस और प्रदर्शनकारी आमने-सामने

प्रदर्शनकारी महिलाओं के साथ पुलिस की जुबानी जंग भी चल रही है। बता दें कि अब तक शांतिपूर्ण तरीके से चल रहे प्रदर्शन में अब माहौल बिगड़ गया है। प्रदर्शनस्थल के चारों तरफ पुलिस लगी हुई है।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 19 Jan 2020 7:33 AM GMT

सीएए पर जंग! अब लखनऊ में पुलिस और प्रदर्शनकारी आमने-सामने
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: यहां के घंटाघर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ मुस्लिम महिलाओं का प्रदर्शन लगातार जारी है। रविवार सुबह प्रदर्शन में पुलिसिया कार्रवाई के बाद अफरा तफरी का माहौल मच गया है। पुलिस ने प्रदर्शनकारी महिलाओं के पास से खाने-पीने के सामान सहित कंबल को भी जब्त कर लिया है।

प्रदर्शनकारी महिलाओं के साथ पुलिस की जुबानी जंग भी चल रही है। बता दें कि अब तक शांतिपूर्ण तरीके से चल रहे प्रदर्शन में अब माहौल बिगड़ गया है। प्रदर्शनस्थल के चारों तरफ पुलिस लगी हुई है।

सुरक्षा व्यवस्था के चलते घंटाघर में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। इससे पहले शनिवार रात घंटाघर में भी भारी संख्या में लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। महिलाओं के हाथ में सीएए और एनआरसी के विरोध की तख्तियां थीं। प्रदर्शन में महिलाओं के अलावा छोटे छोटे बच्चे और बच्चियां भी शामिल थीं।

ये भी पढ़ें—HURRY UP: फ्लिपकार्ट-अमेजन सेल धमाका, इन प्रॉडक्ट्स पर मिल रहा डिस्काउंट

गौरतलब है कि इस दौरान लखनऊ पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से हटने की अपील की, जब प्रदर्शनकारी नहीं माने तो पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के सामान को ​हटा दिया।

प्रदर्शनकारी महिलाओं का आरोप है कि पुलिस ने उनके सामान जब्त कर लिए और टेंट-खाने का सामान नहीं पहुंचने दिया। महिलाओं का कहना है कि पुलिस आंदोलन को रोकने की कोशिश कर रही है।

बताते चलें कि प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जब तक उनकी मांगें नहीं मान ली जाती हैं, तब तक वे प्रदर्शन से पीछे नहीं हटेंगे। लोग अपने साथ खाना, कंबल, पानी, टेंट सब साथ लेकर आए हैं।

वहीं दक्षिणी दिल्ली के शाहीनबाग में हर रात सैकड़ों लोग नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ इकट्ठे होकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। लोगों का मानना है कि सरकार द्वारा लाए गए नए कानून से लोगों का फायदा होने के बजाय नुकसान होगा।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story