×

Basti Crime News: चुनावी रंजिश को लेकर प्रधान का तांडव, घर में घुसकर दलित परिवार से की मारपीट

प्रधानी का चुनाव खत्म हुए भले ही लंबा वक्त बीतने को है, लेकिन चुनावी रंजिश में मारपीट का सिलसिला अभी भी जारी है।

Amril Lal

Amril LalReport Amril LalRaghvendra Prasad MishraPublished By Raghvendra Prasad Mishra

Published on 14 Sep 2021 12:31 PM GMT

dalit parivaar maarapeet
X

मारपीट की घटना में घायल युवक (फोटो-न्यूजट्रैक)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Basti Crime News: बस्ती जिले के हर्रैया थाना Harraiya Police Station क्षेत्र के पनेरा भारी गांव में ग्राम प्रधान सहित गांव के कुछ दबंगों ने मिलकर दलित परिवार के साथ जमकर मारपीट की। इस दौरान दबंगों ने दलित परिवार का घर भी गिरा दिया, साथ ही घर के अंदर घुस कर तोड़फोड़ भी की, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। मारपीट में घायलों ने आरोप लगाया कि ग्राम प्रधान सत्ता के करीबी होने के कारण हम लोगों की हर्रैया थाने में कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

घायल रामसुख ने आरोप लगाया कि मेरा हाथ पैर तोड़ दिया गया है, घर में 4 साइकिल तोड़ दी गई है। हमारा घर छप्पर का था जो गिरा दिया गया है, जिसका विरोध करने पर ग्राम प्रधान सहित अज्ञात 50 लोग मेरे घर पर चढ़कर आए, हमको और हमारे परिवार को लाठी-डंडों से मारने पीटने लगे। इस हमले में हमारे घर के चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। घायलों को एंबुलेंस से थाना हर्रैया लाया गया, जिन का इलाज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हर्रैया में चल रहा है।


पीड़ित परिवार ने सीधा आरोप लगाया कि ग्राम प्रधान के दबाव के चलते हर्रैया पुलिस कोई कार्रवाई अभी तक नहीं की है। यह भी बताया कि दो दिन पहले हमने मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश शासन के पोर्टल पर अपना शिकायती पत्र लिखकर भेजा था। इसके बाद कई बार थाने पर शिकायती पत्र दिया कि ग्राम प्रधान मेरी कभी भी हत्या कर सकते हैं। मेरे प्रार्थना पत्र देने के बावजूद हर्रैया पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की और आज हम लोगों के साथ मारपीट की गई है। मेरा मोबाइल छीन लिया, घर में घुसकर औरतों और बच्चों को भी मारा पीटा।

पीड़ित परिवार ने कहा उनके शिकायती पत्रों पर अगर पुलिस ने कार्रवाई की होती तो आज गांव के दबंग प्रधान सहित अज्ञात लोगों द्वारा जो मार पीट की गयी वह घटना शायद नहीं होती। भले ही प्रदेश के मुख्यमंत्री लाख दावे कर रहे हैं कि थानों पर सुनवाई हो रही है, लेकिन अगर बस्ती जिले में थानों पर सुनवाई हुई होती तो दलित परिवार की पिटाई नहीं होती। दलित परिवार ने यह भी आरोप लगाया कि मुझे गांव में जाने नहीं दिया जा रहा है, सब लोग गांव के बाहर लाठी डंडा लेकर हम लोगों को खोज रहे हैं।


इस संबंध में सीओ हर्रैया ने बताया कि पीड़ित की तहरीर पर एफआईआर दर्ज कर लिया गया है। इसकी विवेचना हम स्वयं कर रहे हैं और गुण दोष के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

Raghvendra Prasad Mishra

Raghvendra Prasad Mishra

Next Story