×

Chandauli News: धान खरीद में बड़ा घोटाला सामने आया, ठेकेदार ने फर्जी धान खरीद कर चावल बेचने का लगाया आरोप

Chandauli News: चंदौली जिले में चहनियां विपणन शाखा पर 2020-21 में धान खरीदी में घोटाले का मामला प्रकाश में आया है।

Ashvini Mishra

Ashvini MishraReport Ashvini MishraDivyanshu RaoPublished By Divyanshu Rao

Published on 3 Aug 2021 8:12 AM GMT

Chandauli News
X

धान खरीद में घोटाले की तस्वीर (डिजाइन फोटो:न्यूज़ट्रैक)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Chandauli News: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के चंदौली (Chandauli) जिले में चहनियां विपणन शाखा पर 2020-21 में धान खरीदी में घोटाले का मामला प्रकाश में आया है। इसकी शिकायत खाद विभाग के ठेकेदार वीरेंद्र प्रताप सिंह ने प्रमुख सचिव खाद्य से किया है। शिकायतकर्ता ने खाद्य विभाग के सचिव से गुहार लगाई है कि चहनिया विपणन केंद्र से धान खरीद में व्यापक पैमाने पर भ्रष्टाचार किया गया है। हालांकि शिकायत कर्ता ने दूसरे ठेकेदार के खिलाफ किया है लेकिन उसने केंद्र प्रभारी की मिली भगत बताई जा रही है।

मिली जानकारी के अनुसार 2 जनवरी 2021 को चहनियां ब्लाक के विपणन शाखा के धान खरीद केंद्र से एक दिन में राधा कृष्ण एग्रो राइस मिल चहनियां पर एक ट्रक से चार चार सौ बोरी धान लेकर 4 चक्कर लगाने का मामला बताया जा रहा है।एक चक्कर मे 160 कुंतल धान लदा होने की बात कही जा रही है। जबकि इसी जीपीएस युक्त वाहन से व्यास नगर से चहनियां विपणन गोदाम के लिए गाड़ी चावल लेकर निकली है।

धान केंद्र की प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो:सोशल मीडिया)

शिकायतकर्ता ने कहा एक कुंतल धान की धुलाई नहीं हुई

शिकायतकर्ता का आरोप है कि यूपी 62 टी 2078 वाहन से टीडी संख्या 11960 2012 246 के द्वारा धान की धुलाई हुई है। इसी तरह तीन बार टीडी संख्या डालकर लगभग 10 किलोमीटर दूर धान क्रय केंद्र से चहनियां स्थित राधा-कृष्ण एग्रो राइस मिल धान भेजा गया है। शिकायतकर्ता ने सीधा सीधा आरोप लगाया है उस डेट में उक्त वाहन से एक कुंतल भी धान की धुलाई नहीं हुई है। जितना धान इस वाहन से उस डेट में ढुलाई के लिए दर्शाया गया है वह पूरी तरह से फर्जी है।

फर्जी खरीद के माध्यम से सीएमआर चावल की कुटाई कर गोदाम को चावल भेज भी दिया गया है।

खाद्य घोटाले का यह पहला मामला नहीं है

हालांकि यह पहला मामला चहनिया विपणन शाखा के प्रभारी सुशील कुमार सिंह का नहीं है। इसके पहले भी सकलडीहा के निवर्तमान सी ओ त्रिपुरारी पांडे ने एक कोटेदार के यहां गेहूं खरीद के लिए दिए गए बोरे को पकड़ा था। क्रय केंद्र प्रभारी एवं ठेकेदार द्वारा व्यापक पैमाने पर भ्रष्टाचार किया गया है। निष्पक्ष जांच की जाए तो बहुत बड़ा घोटाले का मामला उजागर होगा।

डिप्टी आरएमओ ने कहा मामले की जांच की जा रही है

इस संबंध में चंदौली जनपद के डिप्टी आरएमओ अनूप श्रीवास्तव ने बताया है कि उस मामले की जांच की जा रही है और इसमें दो ठेकेदारों के झगड़े का मामला है। गाड़ी 1 दिन पहले धान की ढुलाई की है। जिस डेट में टीडीएस कटा है वह ढुलाई उसी डेट में दिखा रहा है।

हालांकि विभाग भी अपने विपणन निरीक्षक को बचाने में पूरी तरह से उतर गया है और सही तथ्य को छुपाकर क्लीन चिट दिया जा रहा है। जबकि निष्पक्ष जांच की जाए तो शिकायत कर्ता की शिकायत तथ्य के आधार पर की गई है। इस तथ्य को कोई भी झुठला नहीं सकता।अब देखना है कि खाद विभाग के सचिव किस तरह की जांच करवा कर कार्रवाई करते हैं।

Divyanshu Rao

Divyanshu Rao

Next Story