×

सीएम योगी का विपक्ष पर हमला, कहा- यूपी को समस्याग्रस्त बना दिया था पिछली सरकारों ने

गोरखपुर में सैनिक स्कूल के शिलान्यास कार्यक्रम में जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने पिछली सरकारों पर जमकर हमला बोला

Purnima Srivastava

Purnima SrivastavaReport Purnima SrivastavaAshikiPublished By Ashiki

Published on 23 July 2021 1:12 PM GMT

CM Yogi Adityanath
X

गोरखपुर में जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Gorakhpur News: गोरखपुर के खाद कारखाना परिसर में सैनिक स्कूल के शिलान्यास कार्यक्रम में जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने पिछली सरकारों पर जमकर हमला बोला। योगी ने कहा कि वंशवाद, जातिवाद करने वाली पिछली सरकारों ने प्रदेश में अराजकता का माहौल बना दिया था। विकास के पैसों का बंदरबांट किया। इंसेफेलाइटिस की समस्या, खाद कारखाना बंदी की समस्या पिछली सरकारों की देन थी। पूर्व की सरकारों ने यूपी का विकास अवरुद्ध कर इसे समस्याग्रस्त प्रदेश बना दिया था।

कोरोना से अपनों को खोने वालों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए सीएम योगी ने कहा कि उनके रहते यूपी में कोई खुद को असहाय न समझे। कोरोना से निराश्रित हुए बच्चों के भरण पोषण, पढ़ाई के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना शुरू कर दी गई है। इसी तर्ज पर निराश्रित हुई माताओं बहनों के लिए अतिशीघ्र योजना आने जा रही है।


इस अवसर पर सांसद रविकिशन, महापौर सीताराम जायसवाल, विधायकगण डॉ राधामोहन दास अग्रवाल,बिपिन सिंह, संगीता यादव, शीतल पांडेय, डॉ विमलेश पासवान, महेन्द्रपाल सिंह, संत प्रसाद, अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा आराधना शुक्ला, कमिश्नर रवि कुमार एनजी, डीएम के विजयेंद्र पांडियन आदि उपस्थित रहे।

विकास की गतिविधियों का केंद्र बना खाद कारखाना परिसर : सीएम

सीएम योगी ने कहा कि 1990 में खाद कारखाना बंद हो जाने के बाद 26 साल तक केंद्र व पिछली राज्य सरकारों ने यहां के खाद कारखाने की सुधि नहीं ली। 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका नए सिरे से शिलान्यास किया। 2017 में यूपी में बीजेपी की सरकार आई तो खाद कारखाना परिसर विकास की गतिविधियों का केंद्र बन गया। खाद कारखाना बनकर तैयार हो रहा है, इसे अक्टूबर तक जनता को समर्पित कर दिया जाएगा। इससे नौजवानों को नौकरी व किसानों को सस्ती खाद मिलेगी। इसी परिसर में सैनिक स्कूल बन रहा है। इसी परिसर में देश की सीमाओं की सुरक्षा में लगी एसएसबी का मुख्यालय है। यहीं केंद्रीय विद्यालय है, पीएसी की महिला बटालियन स्थापित हो रही है। उपेक्षित रहा यह परिसर अब चहल पहल का केंद्र है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विकास का कोई विकल्प नहीं होता है। यही कारण है कि हमने कोविडकाल में भी विकास की गतिविधियों में निरंतरता में कमी नहीं आने दी। कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए विकास कार्य चलते रहे क्योंकि विकास कार्य ही खुशहाली का आधार हैं। उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के प्रबंधन में उत्तर प्रदेश के कार्य बेहतरीन रहे। एक संवेदनशील सरकार के रूप में हम अपने हर नागरिक के साथ ततपरता से खड़े हैं।


सभी 75 जिलों में होंगे मेडिकल कॉलेज : मुख्यमंत्री

सीएम योगी ने कहा कि कभी पूर्वी उत्तर प्रदेश में एकमात्र मेडिकल कॉलेज बीआरडी मेडिकल कॉलेज ही था। सरकार ने देवरिया, कुशीनगर, बस्ती, सिद्धार्थनगर में भी मेडिकल कॉलेज की सौगात दी है। जो जिले रह गए हैं, वहां हम पीपीपी मॉडल पर मेडिकल कॉलेज खोलने जा रहे हैं। प्रदेश सरकार के पांच साल पूरा होते होते प्रदेश के सभी 75 जिलों में मेडिकल कॉलेज होंगे। सीएम ने एक बार फिर बताया कि गोरखपुर एम्स के शुभारंभ अक्टूबर में पीएम मोदी के हाथों कराया जाएगा।

एक्सप्रेसवे के किनारे बनेंगे औद्योगिक क्लस्टर : योगी

अपने सम्बोधन में सीएम योगी ने सूबे में बन रहे एक्सप्रेस वे के जरिये ढांचागत सुविधाओं के विकास का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस वे, बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे, गंगा एक्सप्रेस वे, गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे, बलिया लिंक एक्सप्रेस वे आदि के किनारे औद्योगिक क्लस्टर बनाए जाएंगे। इससे स्थानीय स्तर पर नौजवानों को नौकरी, रोजगार मिलेगा। सीएम योगी ने बताया कि साढ़े चार सालों में 4.5 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। इसमें 1.20 लाख से अधिक को बेसिक शिक्षा विभाग में ही नियुक्ति मिली है। एक लाख से अधिक युवा पुलिस में भर्ती किए गए हैं। कार्यक्रम में सैनिक स्कूल के साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विभिन्न कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय के छात्रावासों समेत 16 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इन परियोजनाओं की कुल लागत 187.51 करोड़ रुपये है।

Ashiki

Ashiki

Next Story