×

Varanasi News: अंधेरे में डूबा साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद्र का घर, बिजली विभाग ने काटा कनेक्शन

Varanasi News: अपने साहित्य से पूरे देश में हिन्दी का नाम रौशन करने वाले उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद्र का आवास अंधेरे में डूबा हुआ है।

Ashutosh Singh

Ashutosh SinghReport Ashutosh SinghDharmendra SinghPublished By Dharmendra Singh

Published on 30 July 2021 4:15 PM GMT

munshi premchands house
X

 मुंशी प्रेमचंद्र का आवास (फोटो: न्यूजट्रैक) 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Varanasi News: अपने साहित्य से पूरे देश में हिन्दी का नाम रौशन करने वाले उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद्र का आवास अंधेरे में डूबा हुआ है। बिजली विभाग ने वाराणसी के लमही स्थित मुंशी प्रेमचंद्र के आवास का कनेक्शन काट दिया है।

बताया जा रहा है कि बिजली बिल जमा नहीं होने के चलते बिजली काटी गई है। इसे लेकर वाराणसी के साहित्य प्रेमियों में गुस्सा है।

वीडीए के जिम्मे है घर की देखभाल

मुंशी प्रेमचंद्र के आवास के संरक्षण की जिम्मेदारी वाराणसी विकास प्राधिकरण (वीडीए) के जिम्मे है। ग्रामीणों के मुताबिक वीडीए के अधिकारियों ने बिजली बिल जमा नहीं किया, लिहाजा स्मारक और आवास की बिजली काट दी गई। हालांकि स्मारक की देखभाल करने वाले लोग कटिया कनेक्शन के सहारे स्मारक के दफ्तर को रोशन कर लेते हैं। लेकिन मुंशी के पैतृक आवास में अंधेरा छाया हुआ है। आवास में लगे बिजली के बोर्ड और स्विच अब उखड़ने लगे हैं। पंखे और ट्यूबलाइट चोरों ने गायब कर दिए हैं।



स्मारक के केयरटेकर सुरेश चंद्र दुबे कहते हैं कि प्रशासनिक लापरवाही से बिजली काट दी गई। सिर्फ जयंती के दिन स्मारक और पैतृक आवास पर रोशनी की व्यवस्था होती है। साल 2006 में स्मारक के कायाकल्प के लिए बड़े-बड़े दावे किये गए लेकिन नतीजा सिफर रहा।

भू माफियाओं ने जमाया कब्जा

पैतृक आवास के आसपास कि जमीन पर भू माफियाओं की नजर लगी है। आवास के पास बने सरोवर पर भी लोगों ने धीरे धीरे कब्जा जमाना शुरु कर दिया है। हालांकि पिछले दिनों विकास प्राधिकरण ने कार्रवाई भी की है। जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा के अनुसार वृहद कार्य योजना बनाकर मुंशी प्रेम चंद्र के पैतृक आवास को संरक्षित करने की कार्य योजना बनाई जा रही है। इसके तरह 25 लाख रूपये से रूपये स्वीकृत किये गए है। आने वाले दिनों में बिजली कनेक्शन के साथ ही दूसरी जरूरतों को दुरुस्त किया जायेगा।


Dharmendra Singh

Dharmendra Singh

Next Story