Top

चुनाव को लेकर कोएद का SP में विलय तो भासपा का BJP से गठजोड़

By

Published on 19 Jun 2016 8:22 AM GMT

चुनाव को लेकर कोएद का SP में विलय तो भासपा का BJP से गठजोड़
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ/बलिया: यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में सरकार बनाने का दावा करने वाली सपा और बीजेपी अपने समीकरण साधने में जुट गई हैं। तेजी से बदल रहे राजनैतिक घटनाक्रम में पूर्वी उत्तर प्रदेश में मुसलमानों पर मजबूत पकड़ रखने वाली कौमी एकता दल का सपा में विलय होगा तो बीजेपी ने राजभर वोटों पर मजबूत पकड़ रखने वाली भारतीय समाज पार्टी से गठजोड़ का निर्णय लिया है।

21 जून को होगा सपा में विलय

कौमी एकता दल के अध्यक्ष अफजाल अंसारी ने रविवार को बताया कि 21 जून को दल का लखनऊ में सपा में विलय होगा। अंसारी के अनुसार शनिवार को गाजीपुर के मुहम्मदाबाद युसुफपुर में बैठक हुई, जिसमें पार्टी के बड़े नेताओं ने शिरकत की। सबने एक स्वर से कहा कि वक्त का तकाजा है कि सांप्रदायिक ताकतों को रोकने के लिए सारे राग-द्वेष भुला कर उनके खिलाफ लामबंद हुआ जाए।

ये भी पढ़ें...सपा के संतों की टीम पहुंची कैराना, जानेगी हिंदुओं के पलायन का सच

सपा ही दे सकती है सबको जबाब

वक्ताओं ने कहा कि सपा ही ऐसी पार्टी है जो सांप्रदायिक ताकतों को करारा जवाब दे सकती है। उसकी मजबूती के लिए उसका साथ दिया जाए। बैठक में बात आई कि सपा में दल का विलय हो या समझौता। इस मसले पर ज्यादातर की राय यही आई कि घर में घुसा जाए। किरायेदार के रूप में रहना ठीक नहीं। मतलब सपा में दल का विलय हो।

सांप्रदायिक ताकतों से देश को बचाने के लिए होना होगा एक

दल के अध्यक्ष अफजाल अंसारी ने कहा कि सांप्रदायिक ताकतों से देश को बचाने के लिए बिहार में नीतीश-लालू अपना सारा विरोध भूल कर एक हो गए थे। इस सूबे में भी इसकी मांग है। पार्टी अध्यक्ष ने बताया कि सपा नेतृत्व से बातचीत हो चुकी है तथा 21 जून को दल का सपा में विलय हो जायेगा। पार्टी के फ़िलहाल 2 विधायक है। मऊ सदर से मुख़्तार अंसारी व गाजीपुर की मुहम्मदाबाद युसुफपुर सीट से सिबगतुल्लाह अंसारी।

ये भी पढ़ें...संतों से कैराना की जांच कराएगी सपा, बीजेपी पर शिवपाल ने लगाए आरोप

बीजेपी भी मिशन यूपी में है जुटी

दूसरी ओर बीजेपी भी मिशन 2017 पर ध्यान केंद्रित करते हुए असम की तर्ज पर यूपी में सामाजिक समीकरणों को साधने में जुटी गई है। बीजेपी राजभर मतो को अपने पाले में करने के लिए भारतीय समाज पार्टी से गठजोड़ करेगी। भासपा के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने रविवार को कहा कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बुलावे पर उनकी 17 जून को उनसे दिल्ली में बातचीत हुई है। बातचीत का ब्यौरा देते हुए उन्होंने बताया कि बीजेपी से उनके दल का गठजोड़ तय हो गया है। बीजेपी उनके दल को 20 सीट देने पर सहमत हो गई है। उन्होंने बताया कि 9 जुलाई को मऊ में अति दलित व अति पिछड़ा पंचायत होगी। इसमें अमित शाह भी भाग लेंगे तथा गठजोड़ का औपचारिक ऐलान होगा।

20 सीटों पर चुनाव लड़ेगी भासपा

उन्होंने बताया कि भारतीय समाज पार्टी जिन 20 सीट पर चुनाव लड़ेगी, यह भी चिन्हित हो गई है। इसके पूर्व अमित शाह ने यूपी मामले के प्रभारी ओम माथुर से तालमेल को लेकर रिपोर्ट मांगी थी। माथुर ने उनसे 24 मई को बातचीत की थी तथा तालमेल पर सहमति जताते हुए अपनी रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष को दे दी थी। इसके बाद ही अमित शाह ने उन्हें 17 जून को दिल्ली बातचीत के लिए बुलाया था।

ये भी पढ़ें...विधान परिषद में OPEN VOTING पर रोक का मुद्दा, यूपी की सैद्धांतिक सहमति

इस गठजोड़ से होगा सपा बसपा का सफाया

उनका दावा है कि इस गठजोड़ से सपा व बसपा का पूर्वी उत्तर प्रदेश से सफाया हो जायेगा। यूपी में 122 ऐसी विधान सभा सीट है, जहां राजभर 25 हजार से 1 लाख है। पिछले विधान सभा चुनाव में पार्टी 152 सीट पर चुनाव लड़ी थी, जिसमे 26 सीट पर बीजेपी और 47 सीट पर कांग्रेस उनसे पीछे रही थी। भासपा 66 सीट पर मजबूती से लड़ी थी।

Next Story