ऐसे पढ़ेगा तो कैसे आगे बढ़ेगा इंडिया, पढ़ें क्या है ये पूरा मामला

उत्तर प्रदेश सरकार बेसिक शिक्षा स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को बेहतर  और अच्छी शिक्षा देने के लिए सर्व शिक्षा अभियान चला रही है लेकिन जमीनी स्तर पर इसका फायदा होता नजर नहीं आ रहा है।  

Published by Aditya Mishra Published: October 18, 2019 | 8:14 pm
Modified: October 18, 2019 | 8:16 pm

रायबरेली: उत्तर प्रदेश सरकार बेसिक शिक्षा स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को बेहतर  और अच्छी शिक्षा देने के लिए सर्व शिक्षा अभियान चला रही है लेकिन जमीनी स्तर पर इसका फायदा होता नजर नहीं आ रहा है।

ताजा मामला हरचंदपुर थाना क्षेत्र के ब्लाक के गंगागंज प्राथमिक विधालय में देखने को मिला जहाँ पर तैनात प्रधानाध्यापक व सहायक अध्यापिका पंद्रह दिनों से गैर हाजिर है, और विद्यालय चलाने की जिम्मेदारी वंहा पर तैनात शिक्षामित्र के भरोसे है।

इसी दौरान इस विद्यालय में कई दिनों से स्कूल में मिड डे मील भी नही बना। मामले की जानकारी जैसे ही बेसिक शिक्षा अधिकारी पी एन सिंह को दी गई तो उन्होंने जांच कराई और मामला सही पाए जाने पर प्रधानाध्यापक को निलंबित कर दिया।

इस बदहाली और का हाल बयान कर रहा यह विद्यालय महराजगंज तहसील का गंगागंज प्राथमिक विद्यालय है। इस विद्यालय में पिछले 2 अक्टूबर से यंहा पर तैनात प्रधानाध्यापक उपेंद्र यादव नहीं आये साथ ही यंहा पर तैनात सहायक अध्यापक भी गैर हाजिर है।

विद्यालय में पढ़ने आने वाले बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी यंहा पर तैनात शिक्षामित्र की है। दोनों जिम्मेदार शिक्षको की गैरहाजिरी का खामियाजा स्कूल में पढ़ रहे बच्चो को भुगतनी पड़ रही है क्योकि विद्यालय में बीते 5 अक्टूबर से मिड डे मील नही बना,

जिससे ग्रामीणों में आक्रोश है। मामला खुलने पर जिले के बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जांच कराई और जांच रिपोर्ट आते ही प्रधानाध्यापक को निलंबित कर दिया।वही सहायक अध्यापक मेडिकल पर है।

इस मामले में बीएसएस ने कहा कि  जो भी जरूरी कदम होगा वो उठाया जाएगा। लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी।

ये भी पढ़ें…यूपीः रायबरेली से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह को दी गई वाई प्लस सुरक्षा

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App