Top

गंगा में बहती मिली लाशों पर सियासत, रामगोविन्द चौधरी बोले- सरकार आंकड़ों की बाजीगरी में व्यस्त

प्रतिपक्ष के नेता रामगोविन्द चौधरी ने योगी सरकार पर हमला करते हुए कहा- गंगा नदी में बहती लाशें सरकार की कलई खोल रही है।

Anoop Hemkar

Anoop HemkarReporter Anoop HemkarAshiki PatelPublished By Ashiki Patel

Published on 13 May 2021 3:55 PM GMT

Ram Govind Chaudhary
X

प्रतिपक्ष के नेता रामगोविन्द चौधरी( Photo- Social Media) 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बलिया: उत्तर प्रदेश विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता रामगोविन्द चौधरी ने आज योगी सरकार पर हमला करते हुए कहा है कि गंगा नदी में बहती लाशें सरकार की कलई खोल रही है। उन्होंने आरोप लगाया है कि सरकार आंकड़ों की बाजीगरी में व्यस्त है। उन्होंने कहा है कि ऑक्सीजन और दवा के अभाव में हो रही मौत स्वाभाविक मृत्यु न होकर हत्या है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता चौधरी ने आज यहां एक बयान जारी कर प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर गंगा नदी में मिल रहे शवों पर चिंता प्रकट की है । उन्होंने कहा है कि गंगा नदी में बहती लाशें मां गंगा के नाम पर राजनीति की रोटी सेंकने वाले लोगों की राजनीतिक कारगुजारी का प्रतिफल है । उन्होंने इसके साथ ही कहा है कि गंगा नदी में बहती लाशें सरकार की कलई खोल रही हैं । उन्होंने इसके साथ ही जोड़ा है कि सरकार आंकड़ों की बाजीगरी में व्यस्त है। उसे लोगों की परेशानी और लाशें नहीं दिख रही।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि इस महामारी काल में सरकार लोगों की मौत और संक्रमितों की संख्या छुपाने में जुटी है। उन्होंने आरोप लगाया है कि जमीनी धरातल पर सरकार द्वारा महामारी रोकने और पीड़ितों को राहत पहुचाने की दिशा में कोई ठोस एवं सार्थक प्रयास नहीं हो रहा है । इसके कारण आज आम लोग भयभीत हैं। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि कोरोना की पहली लहर के बाद ही सरकार ईमानदारी व संवेदनशील होकर जुट गई होती तो दूसरी लहर इतनी भयावह नहीं होती। उन्होंने कहा कि बेहद त्रासदपूर्ण स्थिति है कि आज लोग ऑक्सीजन और दवाई के अभाव में मर रहे हैं। उन्होंने दावा किया है कि यह स्वाभाविक मृत्यु नहीं बल्कि हत्या है।

उन्होंने कहा कि कोविड की इस महामारी के समय ऑक्सीजन की अनुपलब्धता व दवाओं के अभाव के कारण हो रही अस्वाभाविक मौत की हत्या की दोषी परोक्ष रूप से योगी सरकार है। उन्होंने बताया है कि उनके द्वारा कोविड के संक्रमण को लेकर स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति का जायजा लेने के लिए जिले के कई सरकारी अस्पताल का दौरा किया गया । दौरा में उन्होंने आम लोगों में सरकारी बदइंतजामी के प्रति गुस्सा और भय का माहौल देखा है। उन्होंने कहा है कि स्वास्थ्य कर्मी पूरी तन्मयता से अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं।

उन्होंने योगी सरकार से मांग की है कि प्रदेश के सभी जनपदों में तत्काल एक-एक ऑक्सीजन प्लान्ट स्थापित किया जाय । इसके साथ ही सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर बेड की संख्या बढ़ाने व ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने का कार्य किया जाय व केंद्रों में वेंटिलेटर, सिटी स्केन तथा एक्सरे मशीन लगाया जाय। उन्होंने कहा कि योगी सरकार को विशेषज्ञों की चेतावनी को गम्भीरता से लेना चाहिए । उन्होंने कहा कि विशेषज्ञ चेतावनी दे रहे हैं कि अभी तीसरी लहर बाकी है।

Ashiki

Ashiki

Next Story