उन्नाव रेप केस: दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल पहुंची पीड़िता, हो रहा इलाज

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता को एयरलिफ्ट कर लखनऊ से दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल लाया जा चुका है। पीड़िता को जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाने के लिए दिल्ली पुलिस ने एयरपोर्ट से अस्पताल तक ग्रीन कोरिडोर बनाया गया था

उन्नाव: उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता को एयरलिफ्ट कर लखनऊ से दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल लाया जा चुका है। पीड़िता को जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाने के लिए दिल्ली पुलिस ने एयरपोर्ट से अस्पताल तक ग्रीन कोरिडोर बनाया गया था। जिससे वो जल्द से जल्द  अस्पताल पहुंच सके। डॉक्टर्स की निगरानी में उनका इलाज़ शुरू हो गया है । आपको बता दे कि एंबुलेंस में पीड़िता के अलावा उनके भाई भी उनके साथ गया था ।

इससे पहले उत्तर प्रदेश महिला आयोग की उपध्यक्ष दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल पहुंच चुकी है . उन्होंने मीडिया से बातचीत करने पर बोला कि यह एक बहुत घिनोना अपराध है । महिला आयोग ऐसे दोषियों के लिए फांसी के सजा की मांग करती है।

डाक्टरों के मुताबिक़ पीड़िता 90 प्रतिशत जल चुकी थी । जानकारी के अनुसार पीड़िता को आईसीयू में भर्ती कराया गया है । उसका इलाज जारी है। उधर पुलिस ने वारदात में शामिल सभी पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था । उनसे पूछताछ की जा रही है। एडीजी जोन ने सिविल अस्पताल में जाकर पीड़िता के इलाज की जानकारी ली है।

ये भी पढ़ें…उन्नाव में पुलिस और किसानों के बीच भिड़ंत, जमीन मुआवजे का मामला

जमानत पर रिहा हुए आरोपियों ने दिया वारदात को अंजाम

बिहार थानाक्षेत्र के हिन्दुनगर गांव की है। कुछ दिन पहले ही युवती के साथ रेप हुआ था। इस मामले में दो नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। आज युवती इसी मामले की पैरवी के लिए रायबरेली जा रही थी। सुबह चार बजे के करीब गांव के बाहर खेत में दोनों

आरोपी व उसके तीन साथियों ने उसके ऊपर मिटटी का तेल छिड़ककर आग लगा दी। इसकी सूचना मिलते ही गांव में हड़कंप मच गया। सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंची और पीड़िता को जिला अस्पताल पहुंचाया गया। जहां से उसे लखनऊ रेफर कर दिया गया।

इस मामले में एसपी उन्नाव का कहना है कि उक्त मामले में सभी नामजद आरोपियों को पकड़ लिया गया है। उनकी तलाश के लिए चार टीमें लगाई गई थी।

 

ये भी पढ़ें…उन्नाव रेप पीड़िता के साथ दुर्घटना मामले में कुलदीप सिंह सेंगर और अन्य के खिलाफ आरोपपत्र दायर

सभी पांचों आरोपी गिरफ्तार

गंभीर रूप से झुलसी पीड़िता ने अपने बयान में 5 आरोपियों का नाम लिया है। मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। पीड़िता को जलाया गया है।

उसे बचाने के लिए हरसंभव कोशिश की जा रही है। पीड़िता को लखनऊ रेफर किया गया है। जिन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है, उनमें  हरीशंकर त्रिवेदी, शुभम त्रिवेदी शामिल है। पीड़िता का स्टेटमेंट भी लिया है जो केस में बहुत महत्वपूर्ण होगा।

ये भी पढ़ें…उन्नाव: कतकी मेले में झूले की दो ट्रॉली टूटीं, 4 महिलाएं घायल

 सीएम योगी ने लिया संज्ञान

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने उन्नाव की घटना का संज्ञान लिया है। सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि पीड़िता को सरकार खर्च पर हर संभव चिकित्सा सुविधा मुहैया कराया जाए। साथ ही इस घटना में शामिल आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाये।  उन्होंने अधिकारियों से मामले की जांच कर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया है।

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर बीजेपी पर बोला हमला

उन्नाव की घटना को लेकर प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर योगी सरकार पर हमला बोला है। प्रियंका ने कहा कि यूपी में कानून व्यवस्था पर झूठ बोला गया। कल देश के गृह मंत्री ने झूठ बोला।

मुख्यमंत्री योगी ने भी साफ – साफ झूठ बोला। कहा गया कि कानून व्यवस्था अच्छी हो चुकी है, रोज ऐसी घटनाओं को देखकर मन में रोष होता है, बीजेपी नेताओं को फर्जी प्रचार से बाहर आना चाहिए।

उधर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और पर्वतारोही अरुणिमा सिन्हा ने भी सिविल अस्पताल में जाकर पीड़िता का हाल चाल जाना।

 

एमएलसी सुनील सिंह साजन ने  लगाया ये आरोप

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता को लेकर अब राजनीतिक बयानबाजियों का दौर भी शुरू हो गया है। उन्नाव रेप पीड़िता को देखने लखनऊ के सिविल अस्पताल पहुंचे समाजवादी पार्टी के एमएलसी सुनील सिंह साजन ने अब आरोप लगाया है कि पीड़िता को जलाने वाले आरोपियों की गाड़ियों पर बीजेपी के झंडे लगे हुए हैं। साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तस्वीर भी लगी हुई है।

साजन ने आरोप लगाया कि आरोपियों को बीजेपी का संरक्षण मिला हुआ है। इसके साथ ही उन्होंने अपराध रोकने में विफल होने पर सीएम योगी के इस्तीफे की भी मांग की।

महिला आयोग ने मांगी रिपोर्ट

उन्नाव में बलात्कार पीड़िता को जिंदा जलाने की घटना का संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग ने बृहस्पतिवार को उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह से इस संबंध में रिपोर्ट मांगी।

आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने डीजीपी को भेजे पत्र में कहा कि महिलाओं के अधिकार सुरक्षित रखने के लिए कई कानून बनाने के बावजूद राज्य की राजधानी में महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधों को लेकर आयोग परेशान है।

उन्होंने कहा कि मामले की गंभीरता को देखते हुए आवश्यक है कि राज्य सरकार इस प्रकरण की विस्तृत रिपोर्ट सौंपे।आयोग ने पिछले तीन साल के दौरान उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ हुए जघन्य अपराधों के बारे में भी प्रदेश सरकार से विस्तृत रिपोर्ट तलब की है।

ये भी पढ़ें…चिन्मयानंद केस: इलाहाबाद हाईकोर्ट से रेप पीड़ित छात्रा को मिली राहत, अब होगा ये