Top

लापरवाही: वाराणसी से नहीं मिला सबक, लखनऊ कोर्ट में सुरक्षा की खुली पोल

Admin

AdminBy Admin

Published on 23 April 2016 12:15 PM GMT

लापरवाही: वाराणसी से नहीं मिला सबक, लखनऊ कोर्ट में सुरक्षा की खुली पोल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: काशी की डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में बम मिलने से हड़कंप मच गया है। इस मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए डिस्ट्रिक्ट जज ने सभी न्यायिक काम रोक दिए हैं। लेकिन उस हादसे से राजधानी की पुलिस को कोई फर्क ही नहीं पड़ा है।

लखनऊ के कोर्ट में सुरक्षा के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति ही हो रही है। यहां ना ही कोई सर्च अभियान हुआ और ना ही नहीं कोई सुरक्षा के ख़ास इंतजाम ही देखने को मिले। एक मेटल डिटेक्टर गेट पर पहले से लगा है लेकिन वह काम करता है या नहीं यह कोई नही जानता है।

यह भी पढ़ें ... कोर्ट में मिले बम, एक डिफ्यूज, कुछ घंटे बाद आने वाले हैं होम मिनिस्टर

सुरक्षा को लेकर वकीलों में रोष

-पुलिस की लापरवाही से बार एसोसिएशन में काफी रोष है।

-वकीलों का कहना है कि पुलिस का कोर्ट और वकीलों की सुरक्षा पर कोई ध्यान नहीं हैं।

-अगर यही आलम रहा तो वकील सड़कों पर उतरकर अपना विरोध प्रदर्शन करेंगे।

family-court-lucknowन कोई पुलिस न सुरक्षा

-वकील अमरेंद्र त्रिपाठी ने कहा कि वाराणसी के कोर्ट परिसर में बम मिलना सुरक्षा पर बड़ा सवाल है।

-बम ब्लास्ट कहीं भी हो सकता है, लेकिन राजधानी पुलिस का इस बात पर कोई ध्यान ही नहीं हैं।

-आज भी सिविल कोर्ट में किसी भी प्रकार की न तो विशेष सुरक्षा दिखी और न ही कोई सर्च ऑपरेशन हुआ।

civil-court-lko

यह भी पढ़ें ... खौफ में काशी: 9 साल बाद फिर 23 तारीख को कोर्ट में फैली दहशत

शनिवार को मिला वाराणसी कोर्ट परिसर में बम

-काशी की डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में शनिवार को बम की सूचना मिलने के बाद हड़कंप मच गया था।

-पुलिस के आला अधिकारी बम डिस्पोजल और डॉग स्क्वॉयड के साथ मौके पर पहुंच कर मामले की जांच में जुट गए थे।

-एक वकील की कुर्सी के नीचे से बम स्क्वॉयड ने जिंदा हैंड ग्रेनेड बम बरामद कर डिफ्यूज कर दिया।

-इस घटना के बाद डीजीपी जावीद अहमद ने प्रदेश भर की कोर्ट के सुरक्षा कड़ी करने के निर्देश दिए थे।

सघन चेकिंग अभियान चलाना पुलिस के बस की बात नहीं

-लखनऊ कोर्ट की चेकिंग के बारे में लखनऊ पुलिस के एक सीनियर पुलिस ऑफिसर ने कहा कि कोर्ट में सघन चेकिंग अभियान चलाना पुलिस के बस की बात नहीं है।

-उन्होंने कहा कि वकील स्वयं ही इसका विरोध करेंगे।

-वकीलों के पास से ही अवैध हथियार निकल आएंगे क्योंकि वकील के भेष में कुछ अराजक तत्व हैं, जो वकील नहीं हैं।

क्या कहते है एसएसपी राजेश कुमार पाण्डेय

-एसएसपी राजेश पाण्डेय ने कहा कि कोर्ट के हर चैंबर की चेकिंग करना आसान काम नहीं है।

-हम शाम को 5 से 7 बजे तक तक सघन चेकिंग अभियान चलाकर अपराधियों की धर-पकड़ करेंगे।

क्या कहते है बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष

-लखनऊ बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष चंदन लाल दीक्षित ने कहा कि पुलिस वकील के रूप में छुपे हुए अराजकतत्वों के खिलाफ कार्रवाई करे तो वकील उनका साथ जरूर देंगे।

-उन्होंने कहा कि वकालत के नाम पर बहुत से लोग हैं जो काला कोट पहन कर कोर्ट में दाखिल होते हैं।

-लेकिन सच्चाई यही है कि वे वकील नहीं होते उनके पास से बम भी बरामद हो जाए तो कोई ताज्जुब नहीं हैं।

-अगर ऐसे लोगों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई करती है तो बार एसोसिएशन उनका पूरा साथ देगा।

Admin

Admin

Next Story