Top

रियलिटी चेक: दिखी UP पुलिस की तत्परता, ड्यूटी पर सोते हुए मिले

By

Published on 2 Aug 2016 8:55 AM GMT

रियलिटी चेक: दिखी UP पुलिस की तत्परता, ड्यूटी पर सोते हुए मिले
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बागपतः आपको यूपी पुलिस का यह स्लोगन अक्सर पढ़ने को मिलता होगा कि "उत्तर प्रदेश पुलिस आपकी सेवा में सदैव तत्पर है", लेकिन इसमें कितनी सच्चाई नजर आती है वह बुलंदशहर में हुए मां बेटी के साथ गैंगरेप की वारदात से जग जाहिर होती है। एक तरफ जहां सीएम अखिलेश यादव ने पुलिस को पेट्रोलिंग करने के सख्त आदेश दिए हैं तो वहीं यूपी पुलिस सीएम के आदेश का मजाक उड़ा रही है। यूपी पुलिस की कार्यशैली की जांच करने हमारी टीम कई थानों और पुलिस चौकियों पर गई, तो वहां ड्यूटी के समय कोई पुलिस कर्मी मच्छरदानी लगाए तो कोई पुलिस जीप में ही गहरी नींद लेता नजर आया।

police

ये भी पढ़ें... बुलंदशहर गैंगरेप केसः पीड़ित बोले- न्याय न मिला तो करेंगे आत्मदाह

ट्रक वालों से वसुले 200 रूपए

यूपी-हरियाणा की सीमा पर निवाड़ चेक पोस्ट पर रात को 12 बजे ट्रको की लंबी कतार लगी थी और वहां तैनात पुलिस कर्मी उनसे वसुली करने में मसगुल थे। जब खुद को कैमरे में कैद होता देखा तो एक पुलिस कर्मी मिडियाकर्मियों से उलझ गया, तो वहीं वन विभाग विट चौकी पर भी ट्रक वालों से 200 रूपए वसुली की जा रही थी। पैसे देने के बाद ही किसी को आगे जाने दिया जा रहा था।

baghpat

ये भी पढ़ें...बुलंदशहर गैंगरेप: आंखों के सामने से हट नहीं रहा है वो खौफनाक मंजर

ड्यूटी के समय ही लेली झपकी

इसी तरह हमारी टीम ने क्षेत्र के सरूरपुर पुलिस चौकी , बड़ौत अद्योगिक पुलिस चौकी, बाजार पुलिस चौकी, छपरौली पुलिस चौकी और बड़ौत कोतवाली का रियलिटी चेक किया, जहां हमें ड्यूटी के दौरान पुलिस कर्मी कहीं मच्छरदानी लगाए तो कहीं जीप में सोते मिले, जगाकर पुछने पर बोले कुछ नहीं नींद आ गई थी और फिर सो गए।

police-baghapat

एक तरफ सीएम अखिलेश यादव राज्य में बढ़ती हिंसा की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए पुरजोर कोशिश कर रहे हैं, लेकिन पुलिस महकमा उनके आदेश का पालन करने के बजाय अपनी मनमानी कर रहा है। आखिर राज्य की पुलिस व्यवस्था कब सुधरेगी और कब लोग बेफिक्र हो सकेंगे।

Next Story