बस चालकों-परिचालकों की वर्दी खराब होने पर जिम्मेदार अधिकारियों से होगी वसूली

उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) ने कुम्भ मेला के दौरान वहां ड्यूटी करने वाले बस चालकों-परिचालकों (ड्राइवरों-कंडक्टरों) के लिए वर्दी वितरण की व्यवस्था की थी,लेकिन वहां वर्दी नहीं बांटी गई। इसलिए रोडवेज प्रशासन ने अब वर्दी खराब होने पर जिम्मेदार अधिकारियों से वसूली की चेतावनी दी है।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) ने कुम्भ मेला के दौरान वहां ड्यूटी करने वाले बस चालकों-परिचालकों (ड्राइवरों-कंडक्टरों) के लिए वर्दी वितरण की व्यवस्था की थी,लेकिन वहां वर्दी नहीं बांटी गई। इसलिए रोडवेज प्रशासन ने अब वर्दी खराब होने पर जिम्मेदार अधिकारियों से वसूली की चेतावनी दी है।

क्षेत्रीय प्रबंधक पल्लब बोस ने शुक्रवार को बताया कि आलमबाग डिपो के एआरएम डीके गर्ग को तत्काल बस कंक्डटरों को वर्दी बांटने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा यदि एक भी वर्दी खराब हुई तो जिम्मेदार अधिकारियों से पैसों की वसूली की जाएगी।

यह भी देखें:-चुनाव से पहले ड्रीम गर्ल का देसी अंदाज़! ट्रैक्टर चलाते हुए तस्वीर वायरल

दरअसल, लखनऊ के कैसरबाग और आलमबाग बस डिपो में तैनात चालकों-परिचालकों को पहली बार कुम्भ मेला में वर्दी देने की व्यवस्था की गई थी। कुम्भ मेला के पहले वर्दी खरीदकर आ भी गई। इसके बावजूद अधिकारी वर्दी बांटने से दूर भागते रहे। कुम्भ मेला में उन्हीं चालकों और परिचालकों को भेजना था जिनके पास वर्दी हो।

वर्दी के रूप में दो पैंट व दो शर्ट देना था, जिसकी सिलाई मात्र 200 रुपये थी। फिर भी वर्दी नहीं बांटी गई। अब आलमबाग बस टर्मिनल के स्टोर रूम में पड़ी सैकड़ों वर्दियां खराब होने के कगार पर हैं तब रोडवेज प्रबंधन ने सख्ती दिखाई है।