×

Farmers Protest Rampur: किसान आंदोलन को धार देने के लिए भाकियू ने की पंचायत, कहा- सरकार का रवैया तानाशाही वाला

Farmers Protest Rampur: भारतीय किसान यूनियन की आज अंबेडकर पार्क में किसान पंचायत हुई।

Azam Khan

Azam KhanReport Azam KhanDivyanshu RaoPublished By Divyanshu Rao

Published on 1 Aug 2021 9:28 AM GMT

Farmers Protest Rampur
X

किसान पंचायत करते हुए भाकियू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हनीफ वारसी

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Farmers Protest Rampur: केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों को लेकर किसान संगठन पिछले करीब 8 महीने से अधिक समय से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन (BKU) की आज अंबेडकर पार्क में किसान पंचायत हुई। जिसमें किसानों द्वारा चलाए जा रहे तीन कृषि कानूनों के विरोध प्रदर्शन को किस तरह से धार दी जाए और उसे मजबूत तरीके से सरकार के विरोध में लड़ा जाए इसी की रणनीति तैयार की गई।

इस पंचायत में भाकियू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मौजूद रहे

इस पंचायत में भारतीय किसान यूनियन के वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हनीफ वारसी मौजूद थे। हनीफ वारसी ने सरकार को कड़े लफ्जों में चेतावनी दी है, उन्होंने कहा मोदी जी के तीनों कृषि कानून वापस लें और किसानों से माफी मांगे। उन्होंने आगे कहा कि क्यों कि अभी तक हजारों किसान इस विरोध प्रदर्शन में अपनी जान गवां चुका है।

किसान पंचायत के दौरान किसानों को संबोधित करते भाकियू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हनीफ वारसी


हनीफ वारसी ने कहा ये मामूली किसान नहीं हैं

जहां तक सवाल है धरने पर जो बैठे किसान है। ये मामूली किसान नहीं है उनकी जब तक किसान की मांगे पूरी नही होंगी तब तक किसान उठने वाला नहीं है। और सभी किसान है कोई नेता नहीं है सब अपनी अपनी मांग लेकर बैठे हैं। हनीफ वारसी ने कहा कि मोदी जी रेल चालू करके देखो दिल्ली में आपको चींटी बराबर भी जगह खाली नहीं मिलेगी।

भाकियू उपाध्यक्ष ने कहा सरकार का रवैया तानाशाही है

इतना किसान दिल्ली पहुंचेगा नहीं तो किसान अपने पद से इस्तीफा दे देगा। हनीफ वारसी ने अपने कड़े अल्फाजों में कहा कि सरकार का रवैया तानाशाही वाला है। सरकार को किसानों की बात मानना चाहिए। किसान देश का अन्नदाता है। हर चीज पेट्रोल सरसों का तेल और सभी जरूरत के सामान का मूल्य सरकार काफी काफी पैसे बड़ा रही है। और किसान के अनाज पर ₹10 रुपये 5 रुपये बढ़ाती है।

2022 विधानसभा चुनाव में किसान वोट का करेगा इस्तेमाल

किसान देश का अन्नदाता है उसके बारे में मोदी जी सोचो। हनीफ वारिस ने कहा कि आने वाले हैं 2022 के विधानसभा चुनाव पर किसान किस तरह से अपने वोट का इस्तेमाल करेगा। और जो प्रत्याशी किसान के समर्थन में होगा हम उसी को सपोर्ट करेंगे। लखनऊ में संगठन द्वारा आंदोलन करने की चेतावनी पर हनीफ़ वारसी ने कहा यह ट्रेन तो चालू करके देखें रेल सीमित चल रही है इसलिए आंदोलन में कम लोग हैं जिस दिन रेल चालू कर दी तो पूरे देश में हर जगह धरना प्रदर्शन होगा।

Divyanshu Rao

Divyanshu Rao

Next Story