Top

Lakhimpur Kheri : नेपाल से आए हाथियों का दल पहुंचा दुधवा नेशनल पार्क, प्रशासन हुआ अलर्ट

Lakhimpur Kheri : नेपाल के 12 हाथियों का दल लखीमपुर खीरी के दुधवा नेशनल पार्क पहुंच गया है। पार्क प्रशासन अलर्ट है।

Network

NetworkNewstrack NetworkShraddhaPublished By Shraddha

Published on 19 July 2021 3:35 AM GMT

नेपाल से आए हाथियों का दल पहुंचा दुधवा नेशनल पार्क
X

हाथियों का दल (कॉन्सेप्ट फोटो - सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Lakhimpur Kheri : नेपाल के 12 हाथियों का दल भारत (India) के जंगलों का विचरण करने निकले हैं। यह हाथियों का दल लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) के दुधवा नेशनल पार्क (Dudhwa National Park) पहुंच गया है। नेपाल से आए 12 हाथियों के इस दल को लेकर दुधवा पार्क प्रशासन (Dudhwa Park Administration) अलर्ट है। बताया जा रहा है कि यह हाथी अपने हाथियों का दल भारत के जंगलों का कर रहे विचरण (कॉन्सेप्ट फोटो - सोशल मीडिया)

बताया जा रहा है कि यह हाथियों का दल नेपाल के शुक्लाफांटा नेशनल पार्क से निकला है। यह हर साल मानसून (monsoon) के दौरान नेपाल के हाथियों का दल भारत के जंगलों में आ जाता है। यह हाथी अपने पुरखों के बताए रास्तों पर ही चलते हैं। जानकारी के मुताबिक पुरखों के इन रास्तों पर अब खम्भे, पेड़ और बस्तियां भी बस गई हैं। ऐसे में हाथी उन रास्तों में पड़ रहे अवरोधों को रौंधते चले जा रहे हैं।

हाथियों का दल भारत के जंगलों का कर रहे विचरण (कॉन्सेप्ट फोटो - सोशल मीडिया)


दुधवा पार्क प्रशासन (Dudhwa Park Administration) हाथियों को लेकर अलर्ट हो गया है। पार्क प्रशासन आशंका जता रहा है कि यह हाथियों का दल कुछ दिन और यहां रुकेंगे। इस मानसून के मौसम में शारदा समेत सभी नदियों का स्तर काफी बढ़ गया है। इस कारण इन हाथियों की नेपाल वापसी में अभी थोड़ा वक्त बताया जा रहा है। बताया जा रहा यह हाथी दुधवा, बेलरायां, तिकुनिया के जंगल को पार कर नेपाल वापस जाएंगे।


ग्रामीणों को किया सतर्क

लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) के ग्रामीणों को दुधवा पार्क प्रशासन सतर्क और जागरूक कर रहा है। पार्क प्रशासन ने ग्रामीणों को बताया कि जब हाथियों का झुंड खेतों में जाए तब सभी ग्रामीण समूह में ढोल नगाड़े बजाएं, आग जलाएं, खूब शोर मचाएं। ऐसा करने से हाथी वापस जा सकते हैं। इसके साथ इन हाथियों को किसी भी प्रकार का नुकसान न पहुंचाए। ऐसा करने से खतरा बढ़ सकता है।

Shraddha

Shraddha

Next Story