7 राज्यों में रेलवे टिकट की खरीद-फरोख्त करने वाले गिरोह के सरगना को RPF ने किया गिरफ्तार

Published by Manali Rastogi Published: October 14, 2018 | 10:01 am
Modified: October 14, 2018 | 10:02 am

गोरखपुर / बस्ती: देश के सात राज्यो में रेलवे टिकट की खरीद फरोख्त करने वाले गिरोह के सरगना को बस्ती आरपीएफ की टीम ने मुखबिर की सूचना पर गिरफ्तार किया है। आरपीएफ इंस्पेक्टर नरेन्द्र यादव ने बताया कि वाटसएप के जरिये रेलवे के टिकट बुक कर उसे ट्रेन में ही लोगो को मुहैया करा देते थे। अताउल्लाह गिरोह का सरगना था जिसेकी काफी दिनों से तलाश थी।

यह भी पढ़ें: अफगानिस्तान : चुनाव प्रचार के दौरान हमले, 16 की मौत

मगर वह इतना शातिर था कि एक जगह बैठकर वह कभी काम नही करता और रोज ठिकाना बदलता रहता। मुखबिर के जरिये पुलिस ने जाल बिछाया और अताउल्लाह को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया जिसके पास से 397 टिकट अलग अलग स्टेशनों से मुंबई के टिकट बरामद किये गये।

यह भी पढ़ें: आज से मध्य प्रदेश के 2 दिवसीय दौरे पर जाएंगे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह

जिनका पूरा डिटेल आरोपी अताउल्लाह की मोबाईल में एक वाटसएप ग्रुप पर मिला है। बरामद टिकटों की कीमत 11 लाख 30 हजार रुपये है जिसे पुलिस ने सील कर दिया है। वहीं अतिउल्लाह के एक और साथी मो। हुसैन को भी गिरफ्तार किया है जिसके पास से 41000 रुपये नकद और प्रिंटर, लैपटॉप, नेट कनेक्टर बरामद किया गया है। मो हुसैन ट्रेवल एजेंसी चला रहा था और इसी का आड़ मे टिकट की दलाली का धंधा भी बडे पैमाने पर किया करता था।

यह भी पढ़ें: आज देर शाम लखनऊ आएंगे विजय रूपाणी, कल योगी से करेंगे मुलाकात

ये गैंग बिहार,हरियाणा,मध्यप्रदेश,बंगाल,दिल्ली, तमिलनाडु तक से टिकट बुक करा कर मंहगे दामों पर बेचते थे, जो टिकट ये विभिन्न राज्यों से बुक करते थे उसे ट्रेन, प्लेन और व्हाट्सएप के जरिए ग्राहकों को पहुंचाते थे, गौरतलब है कि आरपीएफ की टीम ने जुलाई माह मे भी अन्तर्राज्यीय टिकटो की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले गिरोह के 4 सदस्यो को पकडा था।

यह भी पढ़ें:

जिसका सरगना फरार चल रहा था और तीन महिने बाद बस्ती की आरपीएफ पुलिस ने अथक प्रयास कर टिकटों के सरदार अताउल्लाह को भी गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। आप ने देखा होगा आम आदमी को रेल्वे में टिकट निकालने के लिए काफी पापड़ बेलना पड़ता है।

कई-कई दिनों तक लोग तत्काल टिकट के लिए रात से ही खाना-पीना खाकर स्टेशन के टिकट काउंटर के बाहर सो जाते हैं। सुबह खिड़की खुलती है तो तो पता चलता है की उन को टिकट ही नहीं मिला। वहीं अगर दलालों को टिकट के दाम का दो गुना,तीन गुना ज्यादा पैसा दे दें तो आप का टिकट आप के घर तक पहुंच जाता है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App