×

कुत्तों से मोर को बचाने में गई किसान की जान, परिजनों में मचा कोहराम

Farmer Death : सदर कोतवाली क्षेत्र के ग्राम पढ़ीन में सोमवार की सुबह खेतों पर रखवाली कर रहे एक किसान की मौत हो गई।

Pravesh Chaturvedi

Pravesh ChaturvediReporter Pravesh ChaturvediShraddhaPublished By Shraddha

Published on 31 May 2021 9:40 AM GMT

किसान की मौत पर परिजनों में मचा कोहराम
X

किसान की मौत पर परिजनों में मचा कोहराम

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Farmer Death : सदर कोतवाली क्षेत्र के ग्राम पढ़ीन में सोमवार की सुबह खेतों पर रखवाली कर रहे एक किसान (Farmer) की मौत हो गई। यह किसान कुत्तों द्वारा मोर को बचाए जाने का प्रयास कर रहा था। ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि कुत्तों ने राष्ट्रीय पक्षी मोर (National Bird Peacock) पर हमला बोल दिया। इस पर किसान ने दौड़कर मोर को बचाने का प्रयास किया। मोर को बचाने के दौरान वह गिर पड़ा और उसके सीने में चोट लग गई। जिससे वह घायल हो गया। घर पहुंचने के बाद उसकी मौत हो गई।

ग्राम पढ़ीन निवासी सदानंद पुत्र रामसनेही उम्र 46 वर्ष सोमवार की सुबह अपने खेतों की रखवाली करने के लिए गया हुआ था। उसी दौरान उसने कुछ कुत्तों को एक मोर का शिकार करते हुए देखा। जिस पर वह लाठी लेकर मोर को बचाने के लिए दौड़ पड़ा। उसी दौरान मोर अपने आप को बचाए जाने के लिए दौड़ी और ट्यूबवेल की कुंडी में भरे पानी में जा गिरी। इस पर किसान ने कुत्तों को पहले लाठी से भगा दिया उसके उपरांत मोर को निकालने के लिए वह दौड़ पड़ा। जैसे ही वह कुंडी के समीप पहुंचा कि वह लडखड़ा कर कुंडी के किनारे बने पत्थर पर जा गिरा। जिससे उसके सीने में चोट लग गई।

इसके उपरांत किसान ने मोर को कुंडी से निकालकर ट्यूबवेल की छत पर रख दिया और अपने घर चला आया। थोड़ी ही देर में उसके सीने में दर्द होने लगा और उसे घबराहट होने लगी। इस पर उसने परिजनों को जानकारी दी। परिजनों ने ग्रामीणों के सहयोग से आनन-फानन में उसे उपचार के लिए औरैया ले जाने का प्रयास किया। मगर गांव से बाहर आते ही किसान ने दम तोड़ दिया।

निजी चिकित्सक ने किसान सदानंद को मृत घोषित कर दिया। मौत की जानकारी मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। ग्रामीणों ने बताया कि मृतक दो भाई हैं और छोटा भाई काफी लंबे समय से बीमार रहता है। दोनों भाइयों के बीच करीब डेढ़ बीघा खेती है जिस पर फसल आदि करके वह अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। ग्रामीणों ने बताया कि मृतक के तीन पुत्रियां जिसमें गीता 18 वर्ष, खुशबू 16 वर्ष, मोहिनी 14 वर्ष एवं एक पुत्र अनुज 12 वर्ष है। मृतक के घर कोहराम मचा हुआ था।

मृतक के परिवार को आर्थिक सहायता दिलाए जाने की मांग

पूर्व प्रधान राजपाल सिंह यादव ने जानकारी देते हुए बताया कि मृतक की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। उन्होंने जिला प्रशासन से मृतक को आर्थिक सहायता दिलाए जाने की मांग की है। वहीं ग्रामीणों ने बताया कि अब सदानंद के घर कमाने वाला कोई नहीं रह गया है।

Shraddha

Shraddha

Next Story