×

Saharanpur: देवबंद में एनआईए की बड़ी कार्रवाई, मदरसे से रोहिंग्या छात्र को हिरासत में लिया

Saharanpur: सहारनपुर के देवबंद में राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने जकरिया मदरसे में पढ़ाई कर रहे एक रोहिंग्या छात्र को हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि उक्त छात्र म्यांमार से यहां आया हुआ था

Krishna Chaudhary
Updated on: 22 Jun 2022 5:43 PM GMT
NIA
X

NIA। (Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Saharanpur: सहारनपुर के देवबंद में राष्ट्रीय जांच एजंसी (NIA) ने गुप्त सूचना पर आज बड़ी कार्रवाई की है। एजेंसी ने देवबंद स्थित जकरिया मदरसे (madrasa in Deoband) में पढ़ाई कर रहे एक रोहिंग्या छात्र (Rohingya student) को हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि उक्त छात्र म्यांमार से यहां आया हुआ था और यहां अरबी क्लास 6 की पढ़ाई कर रहा था। हिरासत में लिए गए छात्र का नाम मुजीबुल्ला पुत्र हबीबुल्ला है। वह बीते एक माह से यहां पढ़ रहा था। एनआईए की टीम ने मदरसे से छात्र के बारे में पूरी जानकारी लेने के बाद उसे आगे की पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई ।

रोहिंग्या शरणार्थी है छात्र

हिरासत में लिया गया छात्र मुजीबुल्ला म्यांमार के अराकान राज्य के सोविता फरिका का है। उसके पास से संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त कार्यालय (United Nations High Commissioner's Office) द्वारा जारी किया वैध कार्ड बरामद हुआ है। वह देवबंद के मोहल्ला महल में किराए के कमरे में रह रहा था। एनआईए की टीम (NIA Team) उस कमरे की भी बारीकी से जांच की है और वहां रखे हर दस्तावेजों को खंगाला है।

छात्र को साथ ले गई एनआईए की टीम

मदरसा और छात्र के कमरे की छानबीन के बाद एनआईए की टीम (NIA Team) रोहिंग्या शरणार्थी मुजीबुल्ला (Rohingya refugee Mujibullah) को अपना साथ ले गई। एनआईए ने छात्र को क्यों उठाया, इसकी जानकारी अभी तक सामने नहीं आई है। एनआईए की तरफ से किसी तरह का बयान जारी नहीं किया गया है। स्थानीय प्रशासन भी इस पर बोलने से परहेज कर रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि किसी खुफिया जानकारी के आधार पर यह कार्रवाई की गई है। आने वाले दिनों में इस पर से पर्दा उठ सकता है।

बता दें कि इससे पहले भी देवबंद के मदरसों एनआईए छापेमारी कर चुकी है। देवबंद स्थित दारूल उलूम में भी कई बार छापेमारी हो चुकी है। यहां से कई बार अवैध तरीके से रह रहे रोहिंग्या लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। यही वजह है कि इस शहर पर हमेशा खुफिया एजेंसियों की निगाह रहती है।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story