×

पर्दा विवाद : विहिप नेता के बयान को हिंदू-मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने नकारा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 11 Feb 2018 3:30 PM GMT

पर्दा विवाद : विहिप नेता के बयान को हिंदू-मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने नकारा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

सहारनपुर : विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय सह संगठन महामंत्री सुरेंद्र जैन द्वारा पर्दे को लेकर दिए गए विवादित बयान को हिंदू व मुस्लिम समुदाय के बुद्धिजीवियों ने सिरे से नकार दिया है। बुद्धिजीवियों का साफ कहना है कि पर्दा किसी के डर से नहीं बल्कि अपने बड़ों के सम्मान के लिए किया जाता है।

शामली में आयोजित एक कार्यक्रम में विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय सह संगठन महामंत्री सुरेंद्र जैन ने कहा था कि हिंदू समाज में कोई पर्दा प्रथा नहीं है। भारत में हिंदू बहू बेटियां केवल मुसलमानों के डर से पर्दा करती हैं। सुरेंद्र जैन के इस बयान को हिंदू व मुस्लिम समुदाय के बुद्धिजीवी वर्ग ने सिरे से नकार दिया है।

मां श्री त्रिपुर बाला सुंदरी देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष सतेंद्र शर्मा ने कहा कि पर्दा प्रथा हिंदू संस्कार की परंपरा है। बहू बेटियों द्वारा पर्दे में रहकर अपने बड़ो को सम्मान दिया जाता है। इस संस्कारिक प्रथा को जो कोई भी डर बताता है उसे हिंदू संस्कृति का ज्ञान नहीं है या फिर वह जानबूझ कर देश का माहौल खराब करने के लिए धर्म की आड़ ले रहा है।

तंजीम उलेमा ए हिंद के प्रदेशाध्यक्ष मौलाना नदीमुल वाजदी ने कहा कि सुरेंद्र जैन देश को नफरत की आग में झोंककर अपनी सियासत को बुलंद करना चाहते हैं। वाजदी ने कहा कि मुल्क में मुसलमान और हिंदू हजारों साल से आपसी मोहब्बत से रह रहे हैं। देश का आठ दशक से पुराना इतिहास उठाकर देखने पर हिंदू मुस्लिमों के नाम पर कोई मामूली झगड़ा भी नहीं मिलेगा। वर्तमान में पैदा हुआ सांप्रदायिक माहौल देश में चल रही तुच्छ राजनीति का परिणाम है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story