Top

छात्रा से छेड़छाड़ का आरोपी वाइस प्रिंसिपल गिरफ्तार, भेजा गया जेल

By

Published on 12 Aug 2016 10:21 PM GMT

छात्रा से छेड़छाड़ का आरोपी वाइस प्रिंसिपल गिरफ्तार, भेजा गया जेल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः छात्रा से छेड़छाड़ और उसकी पानी की बोतल में फिनायल मिलाकर नुकसान पहुंचाने की कोशिश के आरोपी सेंट फिडेलिस स्कूल के वाइस प्रिंसिपल को कोर्ट ने जेल भेज दिया है। राजधानी के विकासनगर थाने की पुलिस ने फादर लेंसी बी लोबो को शुक्रवार सुबह वृंदावन योजना में इंदिरा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी सेंटर के पास से गिरफ्तार किया था।

जज के आवास पर किया पेश

फादर लोबो को पॉक्सो एक्ट के विशेष जज डॉ. लक्ष्मीकांत राठौर के आवास पर पेश किया गया। जिन्होंने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। दरअसल, इस मामले में वकीलों की नाराजगी सामने आई थी। ऐसे में पुलिस को डर था कि कहीं कोर्ट में पेश करने पर वकील के हाथों आरोपी पिट न जाए। विकासनगर थाने के एसओ अरुण कुमार सिंह ने बताया कि लोबो की गिरफ्तारी एसएसआई राजेंद्र सिंह ने की थी।

क्या है लोबो पर आरोप?

कर्नाटक के चिकमंगलूर के बानाकल गांव के मूल निवासी लेंसी बी लोबो पर बीती 3 अगस्त को नाबालिग छात्रा से छेड़छाड़, पानी की बोतल में फिनायल मिलाने और प्रताड़ित करने का केस दर्ज किया गया था। छात्रा ने मजिस्ट्रेट के सामने दर्ज कराए कलमबंद बयान में आरोपों की पुष्टि की थी। हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने गुरुवार को लोबो की अरेस्ट पर स्टे की अर्जी खारिज कर दी थी। वहीं, लोबो की गिरफ्तारी न होने से छात्रा के नाराज परिजनों ने विकासनगर थाने पर हंगामा भी किया था।

सेंट फिडेलिस फिनायल मामले के बाद बच्ची के बैग में मिला लेटर

बच्ची को लिखता था लव लेटर

फादर लेंसी बी लोबो बच्ची को कई लव लेटर भी लिख चुका था। उसने फिनायल कांड के बाद एक लेटर बच्ची के बैग में रखा था। जिसमें उसने लिखा था कि मैं तुमसे प्यार करता हूं। तुमने मुझे धोखा दिया, जिसका खामियाजा तुम्हे भुगतना पड़ रहा है। बच्ची ने अपने बयान में ये भी बताया था कि वाइस प्रिंसिपल ने उसे ये कहकर डराया था कि अगर किसी से इस बारे में बताएगी तो ठीक नहीं होगा। इसकी वजह से बच्ची चुप रही और उसके हौसले बढ़ते गए।

Next Story