मोहम्मद आजम खां को लेकर सपा नेता चौधरी का बड़ा बयान

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के नेता विरोधी दल राम गोविंद चौधरी ने आरोप लगाया है कि पार्टी नेता मो. आजम खां को हराने के लिए रामपुर के प्रशासनिक अधिकारी किसी भी हद तक जा सकते हैं। इनके रहते रामपुर में निष्पक्ष चुनाव नहीं हो सकता है। श्री चौधरी का यह बयान मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पार्टी का ज्ञापन सौंपने के बाद दिया है।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के नेता विरोधी दल राम गोविंद चौधरी ने आरोप लगाया है कि पार्टी नेता मो. आजम खां को हराने के लिए रामपुर के प्रशासनिक अधिकारी किसी भी हद तक जा सकते हैं। इनके रहते रामपुर में निष्पक्ष चुनाव नहीं हो सकता है। श्री चौधरी का यह बयान मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पार्टी का ज्ञापन सौंपने के बाद दिया है।

रामपुर विधानसभा उपचुनाव में निष्पक्ष और स्वतंत्र चुनाव के लिए रामपुर के जिलाधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक को तत्काल हटाकर दूसरे अधिकारियों की तैनाती की समाजवादी पार्टी ने मांग की है। पार्टी प्रतिनिधिमण्डल ने उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से मिलकर इस आशय का एक ज्ञापन सौंपा है।

अखिलेश का सरकार पर करारा हमला, उधर समर्थकों की भगदड़

भारत निर्वाचन आयोग ने उत्तर प्रदेश के 11 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव 21 अक्टूबर 2019 को करने की घोषणा की है। इन 11 विधानसभा क्षेत्रों में रामपुर विधानसभा क्षेत्र भी शामिल है।

सपा नेताओं का आरोप है कि रामपुर जनपद में जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने दहशत का माहौल बना रखा है, इसलिए निष्पक्ष चुनाव हो पाना सम्भव नहीं है।

ज्ञापन में कहा गया है कि रामपुर के जिला प्रशासन और जिला पुलिस द्वारा एक सोची समझी रणनीति के तहत लोकसभा चुनाव के बाद सांसद, मो. आजम खां, उनकी पत्नी, उनके बेटों, रिश्तेदारों और समर्थकों के विरूद्ध फर्जी मुकदमों की संख्या 86 तक हो गई है।

सपा का तर्क

पार्टी का कहना है कि मो. आजम खां ने शिक्षा क्षेत्र में स्वतंत्रता सेनानी मोहम्मद अली जौहर के नाम पर यूनिवर्सिटी बनवाई उससे प्रशासन को क्या दिक्कत है, समझ में नहीं आता है। प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी को मोहम्मद आजम खां और उनके परिवार और रिश्तेदारों के विरुद्ध की जा रही उत्पीड़न की कार्यवाही का विवरण भी दिया।

प्रतिनिधिमण्डल में नेता विरोधी दल विधानसभा रामगोविन्द चौधरी, नेता प्रतिपक्ष विधान परिषद अहमद हसन तथा पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी शामिल थे।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App