Top

QED का सपा में विलय कराने में जुटे मुलायम, विरोध में रहे हैं अखिलेश

By

Published on 15 Aug 2016 10:49 AM GMT

QED का सपा में विलय कराने में जुटे मुलायम, विरोध में रहे हैं अखिलेश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुलायम Anurag Shukla

लखनऊः मुलायम सिंह ने अपने बेटे और यूपी के सीएम अखिलेश यादव पर सपा को बरबाद करने का आरोप लगाया। अब वह डॉन मुख्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल (क्यूईडी) के सपा में विलय को लेकर आने वाले दिनों में फैसला करने वाले हैं। चर्चा है कि नेताजी यानी मुलायम ने क्यूईडी के विलय पर कमान खुद अपने हाथों में ले ली है।

बता दें कि बीते दिनों क्यूईडी के विलय के फैसले पर अखिलेश ने रोड़ा अटका दिया था। अखिलेश ने विलय का जोरदार विरोध किया था, जिसके बाद मुलायम को कदम पीछे खींचने पड़े थे। देखना ये है कि मुलायम अगर क्यूईडी का सपा में विलय कराते हैं तो अखिलेश क्या कदम उठाएंगे।

पहले डांटा फिर थामी कमान

मुलायम ने आजादी की 70वीं सालगिरह के मौके पर हुए प्रोग्राम में पहले तो तमाम मुद्दों को लेकर अखिलेश को डांटा। बताया जा रहा है कि इसके बाद ही अपने दफ्तर में उन्होंने सपा को लेकर कई बड़े फैसले किए। सूत्रों के मुताबिक नेताजी ने अपने करीबी लोगों को बताया कि मुख्तार की पार्टी के विलय को जरूरी बताया और फिर इस मसले पर खुद आगे बढ़ने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें...शिवपाल के समर्थन में खड़े हुए मुलायम, बोले- अखिलेश ने बर्बाद कर दी पार्टी

विलय को मान रहे फायदे का सौदा

दरअसल, पूर्वांचल की 20 से 24 सीटों पर कौमी एकता दल के असर की बात सपा सुप्रीमो मान रहे हैं। उनका मानना है कि ऐसे में विधानसभा चुनावों में क्यूएडी से विलय सपा को फायदा दिला सकता है।

यह भी पढ़ें...साथ खड़े हुए मुलायम, फिर भी इस्तीफे की धमकी दे रहे शिवपाल

कब होगा फैसला?

सूत्रों के मुताबिक मुलायम सिंह यादव के कमान संभालने के बाद जल्दी ही सपा और क्यूईडी के विलय का फैसला हो सकता है। विलय कैसे होना है और कब किया जाए, इसे लेकर आने वाले दो-तीन दिन अहम बताए जा रहे हैं।

अखिलेश ने किया था विरोध

बता दें कि बीते दिनों क्यूईडी के सपा में विलय के मुद्दे पर अखिलेश यादव ने बगावत कर दी थी। मुलायम के भाई शिवपाल यादव उस वक्त विलय करा रहे थे। विलय में भूमिका निभाने वाले बलराम यादव को अखिलेश ने मंत्रीमंडल से बर्खास्त तक कर दिया था। अखिलेश का कहना था कि विलय से फायदा कम और बदनामी ज्यादा होगी। अखिलेश के अड़े रहने पर सपा के संसदीय बोर्ड ने विलय को खारिज कर दिया था। इस मामले के बाद ही शिवपाल और अखिलेश के बीच तल्खी सार्वजनिक हो गई थी।

Next Story