संभल: 23 घंटे बाद भी सिपाहियों के हत्यारों को नहीं खोज पाई पुलिस, रखा इनाम

उत्तर प्रदेश के संभल जिले में दो सिपाहियों को गोली मारकर फरार हुए तीन बदमाशों पर पुलिस ने ढाई-ढाई लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। फरार हुए बदमाशों के नाम कमल, शकील और धर्मपाल हैं।

संभल: उत्तर प्रदेश के संभल जिले में दो सिपाहियों को गोली मारकर फरार हुए तीन बदमाशों पर पुलिस ने ढाई-ढाई लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। फरार हुए बदमाशों के नाम कमल, शकील और धर्मपाल हैं।

तीनों की वांछित बदमाशों के तौर पर पुलिस ने तस्वीरें जारी की हैं। वहीं बदमाशों की तलाश में यूपी एसटीएफ लगाई गई है।

ये भी पढ़ें…संभल में सड़क दुर्घटना में 10 की मौत, 12 लोग घायल

ये है पूरा मामला

सोनभद्र के बाद संभल में बदमाशों ने यूपी पुलिस को खुली चुनौती दे डाली। दरअसल, चंदौसी अदालत में पेशी के बाद कैदियों से भरी वैन वुधवार को मुरादाबाद लौट रही थी। गाड़ी में हथियार बंद पुलिसकर्मी भी तैनात थे। जब पुलिस वैन संभल के थाना बनियाठेर क्षेत्र से होकर गुजर रही थी। तभी अज्ञात हथियारबंद बदमाशों ने वैन पर हमला बोल दिया।

बदमाशों ने कैदियों से भरी पुलिस वैन पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। ये सबकुछ इतनी जल्दी में हुआ कि पुलिस वैन पर तैनात सुरक्षाकर्मी कुछ समझ भी नहीं पाए। हमले में 2 पुलिसकर्मियों को गोली लग गई। बेखौफ बदमाश इसी बीच तीन कैदियों को वैन से निकालकर साथ ले गए।

ये भी पढ़ें…जन सूचना अधिकार:DM संभल समेत 14 अधिकारियों पर जुर्माना

गोली लगने के बाद पुलिस की हो गई मौत

गोली लगने से घायल हुए दोनों पुलिसकर्मियों की बाद में मौत हो गई। तीन कैदियों को भगा ले जाने की वारदात से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। इलाके में सनसनी फैल गई। सूचना मिलते ही पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए। दोनों मृत पुलिसकर्मियों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए गए हैं।

पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। अब पुलिस फरार हुए कैदियों और बदमाशों की तलाश में जुट गई है। उधर, सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतक सिपाहियों के परिजनों को 50-50 लाख रुपये का मुआवजा दिए जाने का ऐलान किया है।

एक ही दिन में दो बड़ी वारदातों ने योगी सरकार की कानून व्यवस्था पर सवालिया निशान लगा दिए हैं। हालांकि दोनों ही मामलों में पुलिस जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार करने का दावा कर रही है।

ये भी पढ़ें…लखनऊ: योगी बोले- लाल टोपी वाले नेता संभल जाएं, नहीं तो जनता निपटाना शुरू कर देगी