×

फोर्ब्स के इनसाइटफुल आइकंस सूची में लखनऊ के संतोष श्रीवास्तव, मेडिकल जांच किट से बनाई ग्लोबल पहचान

फोर्ब्स ने लखनऊ की मेडिकल डायग्नोस्टिक कंपनी के फाउंडिंग डायरेक्टर संतोष श्रीवास्तव को भारत के इनसाइटफुल आइकंस में शामिल किया है।

Akhilesh Tiwari

Written By Akhilesh TiwariPublished By Ashiki

Published on 31 May 2021 11:20 AM GMT

Santosh Srivastava
X

संतोष श्रीवास्तव 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: अमेरिका की जानीमानी पत्रिका ने फोर्ब्स ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की मेडिकल डायग्नोस्टिक कंपनी के फाउंडिंग डायरेक्टर संतोष श्रीवास्तव को भारत के इनसाइटफुल आइकंस में शामिल किया है। पत्रिका ने माना है कि पिछले 2 साल के दौरान मनुष्यता ने जिस सबसे कठिन समय का सामना किया है। उसमें कुछ लोग ऐसे हैं जिन्होंने अपनी नेतृत्व क्षमता से न केवल कार्य क्षेत्र का विस्तार किया है वरन मानवता की रक्षा में भी बढ़चढ़कर योगदान किया है। लखनउ की बॉयोजेनिक्स कंपनी के संतोष श्रीवास्तव को पत्रिका ने देश के दस ऐसे चुनिंदा लोगों में शामिल किया है। बॉयोजेनिक्स पिछले एक साल से कोविड आरटी—पीसीआर, डी-डाइमर, सीआरपी, एलडीएच और फेरेटिन जांच किट की आपूर्ति करने वाली प्रदेश की इकलौती मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी बनी हुई है।

फोर्ब्स ने अपने इनसाइटफुल आइकंस की घोषणा करते हुए कहा है कि पिछले दो साल से पूरे विश्व को स्वास्थ्य क्षेत्र में संकट का सामना करना पड़ रहा है। महामारी ने पूरी दुनिया को न केवल शारीरिक और मानसिक नुकसान पहुंचाया है बल्कि आर्थिक तौर पर भी क्षति हो रही है। ऐसी अप्रत्याशित चुनौतियों का सामना करते हुए जिन इंडस्ट्री ने क्षमताओं के दायरे से बाहर निकलकर काम किया है। अपनी नेतृत्व क्षमता को साबित करते हुए विस्तार किया है उन्हें इनसाइटफुल आइकंस में शामिल किया जा रहा है। भारत के ऐसे 10 उद्योगपतियों की सफलता की कहानी पत्रिका ने प्रकाशित की है जिसमें राजधानी लखनऊ के संतोष श्रीवास्तव और उनकी कंपनी bio-genix के काम को भी अहम माना है।


आईवीडी इंडस्ट्री में पिछले 25 साल से काम कर रहे संतोष श्रीवास्तव ने 2007 में जब bio-genix की स्थापना की तो उनका एक ही लक्ष्य था उत्तर प्रदेश में आईवीडी इंडस्ट्री का विकास और स्थानीय प्रतिभाओं को अपने ही प्रदेश में काम करने का मौका देना। बीते सालों में उनकी कंपनी ने भारत और दुनिया के कई देशों में अपनी गुणवत्तापूर्ण डायग्नोस्टिक किट और लैब उपकरणों की आपूर्ति की है इससे कंपनी की आईवीडी इंडस्ट्री में विशेष पहचान बनी है।


कंपनी के पैथोलॉजिस्ट और डॉक्टरों की विशेषज्ञता का लोहा पूरी दुनिया ने माना है। उनके गुणवत्ता पूर्ण कार्यों की सराहना वैश्विक स्तर पर हो रही है। मेडिकल मैन्युफैक्चरिंग के क्षेत्र में कंपनी के उत्पादों को राष्ट्र स्तर से लेकर विदेशों में भी सराहना मिली है। फोर्ब्स पत्रिका ने कंपनी के कामकाज को रेखांकित करते हुए लिखा है कि बिजनेस पॉलिसी और वर्क एथिक्स ने इस कंपनी को इनसाइटफुल आइकंस नॉमिनेशन के लिए सबसे दमदार आधार प्रदान किया है। कंपनी के बनाए हुए ज्यादातर उत्पाद अपनी श्रेष्ठ क्वालिटी और उपभोक्ताओं के संतुष्टि पूर्ण फीडबैक् के आधार पर विश्व स्तर पर मान्यता हासिल करने में कामयाब रहे हैं।


न्यूज ट्रैक से बातचीत में संतोष वास्तव ने बताया है कि उपभोक्ताओं की संतुष्टि के लिए उनकी कंपनी हमेशा सतर्क व सचेत रही है। उपभोक्ता की वश्यकता और अपेक्षाओं को ध्यान में रखकर उत्पादों का निर्माण किया जा रहा है। कंपनी का क्वालिटी मैनेजमेंट सिस्टम ऐसा है जिससे भरोसेमंद मेडिकल प्रोडक्ट तैयार किए जा रहे हैं। काम-काज में उच्च गुणवत्ता मानदंडों का पालन करने के फलस्वरूप ही उनकी कंपनी को आईएसओ सर्टिफिकेशन 13485:2016 मिला हुआ है।


बॉयोजेनिक्स में चिकित्सा जांच किट तैयार करने के लिए आईवीडी इंडस्ट्री के श्रेष्ठतम तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है। यही वजह है कि उत्पाद की गुणवत्ता हमेशा सर्वश्रेष्ठ होती है। मेडिकल इंडस्ट्री के लिए हम लोगों क्योंकि जांच किट और उपकरण तैयार करते हैं। ऐसे में हमारा पूरा ध्यान उच्चकोटि की गुणवत्ता पर बना रहता है क्योंकि हम जानते हैं कि मेडिकल जांच की गुणवत्ता का सीधा संबंध रोगी की जांच रिपोर्ट से होता है।


अगर जांच किट में कमी होगी तो रिपोर्ट सटीक नहीं मिलेगी। जांच रिजल्ट के आधार पर ही चिकित्सक अपने मरीजों के लिए दवाओं का निर्धारण करते हैं इसलिए मेडिकल किट की गुणवत्ता बनाए रखना हमारे लिए सदैव चुनौतीपूर्ण रहा है। bio-genix हमेशा इस कसौटी पर खरी उतरी है। पिछले 13 साल के दौरान कंपनी ने विभिन्न बीमारियों के लिए मेडिकल किट तैयार की है।


जिसमें एलिजा टेस्ट किट, क्लिनिकल केमेस्ट्री , रैपिड टेस्ट किट जिसमें टीएसएच,एएमएच, टॉर्च पैनल, डेंगू एनएस1, कोरटीसोल, विटामिन डी, फेराटिन, पीएसए, कॉलेस्ट्रॉल, ट्रिग्लसराइड, यूरिक एसिड, ग्लूकोज, मलेरिया, चिकुनगुनिया, यूरिक एसिड शामिल है।

Ashiki

Ashiki

Next Story