Top

TAJ की निगरानी करते हैं 200 पुलिसकर्मी फिर कैसे लगी सुरक्षा में सेंध

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 22 May 2016 8:35 AM GMT

TAJ की निगरानी करते हैं 200 पुलिसकर्मी फिर कैसे लगी सुरक्षा में सेंध
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगरा: विश्व प्रसिद्ध इमारत ताज महल की कुछ दिन पूर्व सुरक्षा में लगी सेंध से अभी तक अधिकारी चौकन्ने नहीं हुए है। कल एक बार फिर ताज सुरक्षा में एक पर्यटक गाड़ी ने सेंध लगा दी। दो बैरियर पार कर मिनी बस पूर्वी गेट रोड स्थित शीला होटल तक पहुंच गई। इससे सुरक्षा कर्मियों में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में गाड़ी को प्रतिबंधित दायरे से बाहर कराया गया।

ताज के पूर्वी गेट तक पहुंची टेम्पो ट्रेवलर

ताजमहल की 500 मीटर की परिधि में केवल पासधारक वाहन ही जा सकते हैं। शनिवार शाम करीब 7:40 बजे पर्यटकों से भरी गाजियाबाद नंबर की एक टेम्पो ट्रेवलर वन विभाग और ताज खेमा बैरियर को पार कर ताज के करीब तक पहुंच गई। इससे ताज सुरक्षा में तैनात जवानों में अफरा-तफरी मच गई। टेम्पो ट्रेवलर को प्रतिबंधित दायरे से बाहर कराने के साथ ड्राइवर से भी पूछताछ की गई।

करोड़ों खर्च फिर भी लगती है ताज सुरक्षा में सेंध

-अभी तक जितनी बार सुरक्षा में सेंध लगी है, लापरवाही बरतने पर किसी भी अधिकारी या पुलिसकर्मी पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

-ये हालत तब है जब 17 वीं सदी के इस स्मारक की सुरक्षा के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस के लगभग २०० पुलिस कर्मी तैनात हैं।

-राज्य पुलिस स्मारक के चारों तरफ 5०० मीटर दायरा जिसे येलो जॉन के नाम से जाना जाता है।

-उसमे चौबीसों घंटे सुरक्षा व्यवस्था संभालती है।

-ताजमहल की रक्षा करने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस पर 8 करोड़ रुपए पर खर्च किया जाता है।

कहीं भारी न पड़ जाए लापरवाही

इससे पहले भी कई बार गाड़ियां प्रतिबंधित क्षेत्र में प्रवेश कर चुकी हैं।

करीब 15 दिन पूर्व तो ताज पश्चिमी गेट पर सभी चेकिंग को धता बताकर दिल्ली के तीन युवक रात के अंधेरे में स्मारक की दीवार पर चढ़ गए थे।वहीँ कुछ समय पूर्व हरयाणा की एक गाडी भी बैरियर को तोडती हुई पूर्वी गेट तक जा पहुंची थी । गनीमत है कि सुरक्षा में सेंध लगाने वाले अभी तक सिर्फ पर्यटक है अगर इनकी जगह दहशतगर्द होते तो हालत किस कदर होंगे अंदाजा लगाना मुश्किल है।

Newstrack

Newstrack

Next Story