Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

कई घरों में बजनी थी शहनाई, लेकिन नोटबंदी की वजह से हो रहे लोग परेशान

By

Published on 12 Nov 2016 8:20 AM GMT

कई घरों में बजनी थी शहनाई, लेकिन नोटबंदी की वजह से हो रहे लोग परेशान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोटबंदी

बहराइच: 500-1000 के नोट बंद होने की वजह से सबसे अधिक परेशानी उन लोगो को हो रही है, जिनके यहां शादी होने वाली है। परिजन परेशान हैं। कोई रिश्तेदारों से उधार ले रहा है, तो कोई अपने जेवर गिरवीं रख पैसे का इंतजाम कर रहा है।

आगे की स्लाइड में पढ़ें क्या कहना है इन परिवारों का?

bahraich

क्या कहते हैं पूरनमल अग्रवाल?

-पूरनमल अग्रवाल रुपईडीहा के रामलीला चौराहा बजाजा मार्केट में रहने वाले हैं।

-उनके बेटे पंकज अग्रवाल का विवाह 23 नवंबर को है। शादी में सिर्फ 11 दिन बचे हैं।

-घर पहुंचने पर पता चला कि वह अपनी पत्नी के साथ दुकान पर शादी के इंतजाम के विचार विमर्श में हैं।

-पति-पत्नी ने कहा कि लाख, डेढ़ लाख का इंतजाम था। वह सारे नोट बेकार हो गए ।

-बैंक में 25 हजार से अधिक जमा नहीं कर रहे हैं। बदले में सिर्फ चार हजार दे रहे हैं।

-ऐसे में शादी कैसे होगी, वह कुछ समझ नहीं पा रहे हैं।

-काफी अरमान थे, लेकिन रुपयों के अभाव में हाथ खाली है। काफी दिक्कतें हो रही है।

bahraich4

क्या कहते हैं हाजी मोहम्मद हुसैन?

-बाबागंज निवासी हाजी मोहम्मद हुसैन के घर में एक नहीं बल्कि चार-चार शादियां हैं।

-उन्होंने 500-1000 के नोट बंद होने के पहले जितने पैसों का इंतजाम था, सब बेकार हो गए।

-हाजी मोहम्मद के घर में 14,15,16 और 18 नवंबर को शादियां होनी है।

-लेकिन पैसे के अभाव में निकाह कैसे होंगे, समझ में नहीं आ रहा है।

-उनके घर में मुश्किल से चार-छह हजार रुपए हैं।

-मोहम्मद हुसैन ने अपने रिश्तेदारों से मदद की गुहार लगाई है।

bahraich3

क्या कहना है राजरानी का?

-हरदी थाना क्षेत्र के माधवपुर करेहना निवासी राजरानी के पति रामदुलारे की मौत हो चुकी है।

-बेटी विमला के विवाह के लिए राजरानी ने मेहनत मजदूरी कर एक लाख रुपया इकट्ठा किया था।

-20 नवंबर को तिलक होना है जबकि 25 नवंबर को शादी है।

-घर में रखे पैसे बेकार हो गए। बैंक से भी पैसे नहीं निकल पा रहे है।

-ऐसे में मायके फोन किया था। भाई दीपक ने कुछ लोगों से पैसे का इंतजाम किया है।

Next Story