×

रामलीला के मंच पर रात 12 के बाद सजती है बार बालाओं की महफिल

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 27 Sep 2017 3:26 PM GMT

रामलीला के मंच पर रात 12 के बाद सजती है बार बालाओं की महफिल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मुरादाबाद : जिले के भगतपुर थाना क्षेत्र के गांव सतींखेडा में पिछले कई दिनों से आयोजित रामलीला में नियम कायदों की जमकर धज्जियाँ उड़ाई जा रही है। ये सब हो रहा है पुलिस की नाक के नीचे। स्थानीय स्तर पर आयोजित रामलीला के मंच पर भीड़ जमा नहीं होती। लेकिन रात्रि 12 से 1 बजते ही लोगों का हुजूम उमड़ पड़ता है।

ये भी देखें:बनी-बनाई धारणाओं को चुनौती दे रहे आजमगढ़ के आधुनिक होते मदरसे

दरअसल पूरी रात तक चलने वाली रामलीला में आयोजकों द्वारा रात को 12 बजे के बाद बार बालाओं का अश्लील डांस कराया जाता है। जिसे देखने आसपास के गावं से लोग रामलीला में पहुंच रहे हैं। देर रात शुरू होने वाला बार बालाओं के डांस का स्पेशल शो सुबह तक जारी रहता है। पूरी रात डांस देखने पहुंचे लोग डांस करने वाली लड़कियों पर जमकर नोट लुटाते रहते है।

ये भी देखें: ADJ जया पाठक के पति ने कहा- पत्‍नी निर्दोष, पुलिस नहीं ले रही Action

पुलिस और प्रशासन की अनुमति शर्तों के आधार पर दी गयी थी। बावजूद इसके आयोजक नियम कानूनों को ठेंगा दिखा रहे हैं। रामलीला में अश्लील डांस होने की जानकारी सभी खास ओ आम के साथ पुलिस और प्रशासन को भी है। फूहड़ गीतों पर देर रात तक झूमती बार बालाएं और पैसे लुटाते लोगों से स्थानीय लोग भी नाराज हैं। इसके बाद भी पुलिस मूकदर्शक बनी है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story