चारे पानी को तरस रहे 75 गोवंश, पंचायत भवन में एक माह से हैं कैद

सिरसिया के जानकी नगर ग्राम पंचायत भवन में विगत एक माह से 75 गोवंश बंद हैं। चारे के नाम पर कुछ दिन पूर्व कैंपस में फेंका गया पुआल भी गोबर से अब बर्बाद हो चुका है।इससे मवेशियों की जान पर बन आई है।जानकारी के बाद भी अधिकारी मौन हैं।सिरसिया ब्लॉक के ग्राम जानकी नगर में लोगों ने एक माह पूर्व छुट्टा जानवरों को पंचायत भवन परिसर में बंद कर दिया था। मौजूदा समय में लगभग 75 गोवंश इस भवन में बंद हैं।

Published by Anoop Ojha Published: February 14, 2019 | 10:08 am
Modified: February 14, 2019 | 10:09 am

चारे पानी को तरस रहे 75 गोवंश, पंचायत भवन में एक माह से हैं कैद

श्रावस्ती: सिरसिया के जानकी नगर ग्राम पंचायत भवन में विगत एक माह से 75 गोवंश बंद हैं। चारे के नाम पर कुछ दिन पूर्व कैंपस में फेंका गया पुआल भी गोबर से अब बर्बाद हो चुका है।इससे मवेशियों की जान पर बन आई है।जानकारी के बाद भी अधिकारी मौन हैं।सिरसिया ब्लॉक के ग्राम जानकी नगर में लोगों ने एक माह पूर्व छुट्टा जानवरों को पंचायत भवन परिसर में बंद कर दिया था। मौजूदा समय में लगभग 75 गोवंश इस भवन में बंद हैं।

यह भी पढ़ें……श्रावस्ती: अवैध शराब निर्माण पर हुई छापेमारी

ग्रामीणों की ओर से बंद किए गए मवेशियों के चारे की यहां कोई व्यवस्था नहीं है। कुछ दिन पूर्व ग्रामीणों ने थोड़ा पुआल परिसर में फेंक दिया था। इसे जानवर खत्म कर चुके हैं, कुछ पुआल गोबर से पट गया। परिसर में पेय जल के लिए लगा हैंडपंप जब कोई ग्रामीण चलाता है, तो वहां बने गड्ढे में पानी एकत्र हो जाता है। इसी से मवेशियों की प्यास बुझती है। एक माह से भी अधिक समय तक एक ही परिसर में इतने मवेशी के बंद होने के कारण वहां परिसर काफी गंदा हो चुका है।

यह भी पढ़ें…..पुलिस की कर्रवाई: श्रावस्ती में पकड़ी गई तेंदुए की खाल

मामले में ग्राम पंचायत अधिकारी राजकुमार यादव ने बताया कि अधिकारियों की ओर से छुट्टा मवेशियों को एकत्र करने का आदेश हुआ था।इसी के बाद ग्रामीणों ने इन मवेशियों को पंचायत भवन में बंद किया था। इनके चारे आदि का कोई भी प्रावधान नहीं है। ग्रामीण देते होंगे पर जानकारी नहीं है।

यह भी पढ़ें…..श्रावस्ती- मार्ग दुर्घटना में दो युवक घायल,एक की लखनऊ ट्रामा सेंटर में इलाज के दौरान हुई मौत

जांच कर होगी कार्रवाई
न्याय पंचायत स्तर पर पशु आश्रय स्थल बनवाए जा रहे हैं। जहां चारा व पानी दोनों मौजूद हैं। यदि किसी पंचायत भवन में मवेशी बंद हैं तो यह गलत है। इसकी जांच कराकर संबंधितों के विरुद्ध कार्रवाई कर मवेशियों को आश्रय स्थल भेजा जाएगा।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App