×

Sitapur: गालीबाज सहायक अध्यापक पर मुकदमा दर्ज, महिला प्रधानाध्यापिका को गाली देने का वीडियो हुआ था वायरल

Sitapur News: सीतापुर में महिला प्रधानाध्यापिका को गाली देने वाले सहायक अध्यापक के खिलाफ डीएम के आदेश पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। वही बीएसए ने अध्यापक को निलंबित कर दिया है। यह पूरा मामला गोंदलामऊ ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय करणपुर का है।

Sami Ahmed
Report Sami Ahmed
Updated on: 5 Aug 2022 8:11 AM GMT
Sitapur News
X

महिला प्रधानाध्यापिका को गाली देने वाला सहायक अध्यापक (साभार सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Sitapur News: यूपी के सीतापुर में सहायक अध्यापक का महिला प्रधानाध्यापिका को गाली देने वाले सहायक अध्यापक के खिलाफ डीएमके आदेश पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जिसमें पुलिस ने 294, 323, 504, 506, 353 सहित एससी एसटी के तहत मुकदमा दर्ज किया है। वही बीएसए ने सहायक अध्यापक को निलंबित कर दिया है। यह पूरा मामला गोंदलामऊ ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय करणपुर का है।

सोशल मीडिया पर गाली देने एक वीडियो

विगत दिनों एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। जिसमें विद्यालय में खड़े सहायक अध्यापक प्रार्थना के दौरान प्रधान अध्यापिका को गाली देते हुए नजर आ रहा था इसी के साथ एक अन्य वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था । जिस में भी सहायक अध्यापक अपशब्दों का प्रयोग करता हुआ नजर आ रहा था। इस पूरे मामले को लेकर प्रधान अध्यापिका ने विभागीय अधिकारियों से शिकायत की थी।

डीएम के आदेश पर हुआ मुकदमा

प्रधान अध्यापिका का आरोप है उसकी शिकायत पर विभागीय अधिकारियों ने कोई सुनवाई नहीं इसके बाद प्रधान अध्यापिका ने डीएम अनुज सिंह से मिलकर न्याय की गुहार लगाई पूरे मामले को संज्ञान में लेते हुए डीएम ने सहायक अध्यापक के खिलाफ तत्काल मुकदमा दर्ज करने के सजना थाने को निर्देश दिए क्या जिसके बाद पुलिस ने सहायक शिक्षक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया।

बीएसए ने किया अध्यापक को निलंबित

वहीं इस पूरे मामले को लेकर बीएसए अजीतसिंह का कहना है कि शिक्षक को पहले ही निलंबित कर दिया गया था और पूरे मामले की जांच की जा रही है बीएसए का कहना है कि आरोपी शिक्षक का दिमागी संतुलन ठीक नहीं रहता है बीएसए अजीत सिंह की बातों को अगर ले कर देखें तो आरोपी शिक्षक अध्यापकों के साथ-साथ बच्चों के लिए भी घातक साबित हो सकता है।

Prashant Dixit

Prashant Dixit

Next Story