सोनभद्र नर संहार: बसपा प्रतिनिधिमंडल ने पीड़ित परिवार के सदस्यों से की मुलाकात

बसपा नेताओं ने पुलिस से काफिले को छोड़ने की बात कही लेकिन पुलिस ने दो गाड़ियों में 10 लोगों को ही छोड़ने की बात कही, घटनास्थल पर पहुंचे प्रतिनिधिमंडल ने घटना में पीड़ित परिवार के सभी सदस्यों से मुलाकात की इस दौरान मीडिया से मुखातिब हुए विधानमंडल दल के नेता लालजी वर्मा ने बताया कि बहुत ही दर्दनाक घटना हुई है।

सोनभद्र: यूपी के जनपद सोनभद्र में बहुजन समाज पार्टी की प्रतिनिधि मंडल ने आज घोरावल थाना क्षेत्र के उम्भा गांव पहुंच पीड़ितों से मुलाकात की और उनके दर्द को सुना, घटना स्थल से पहले ही पुलिस ने बैरिकेडिंग कर राजनीतिक पार्टियों के नेताओं व उनकी गाड़ियों को रोक दिया।

विधानमंडल दल के नेता लालजी वर्मा ने बताया कि बहुत ही दर्दनाक घटना हुई है

इस दौरान बसपा नेताओं ने पुलिस से काफिले को छोड़ने की बात कही लेकिन पुलिस ने दो गाड़ियों में 10 लोगों को ही छोड़ने की बात कही, घटनास्थल पर पहुंचे प्रतिनिधिमंडल ने घटना में पीड़ित परिवार के सभी सदस्यों से मुलाकात की इस दौरान मीडिया से मुखातिब हुए विधानमंडल दल के नेता लालजी वर्मा ने बताया कि बहुत ही दर्दनाक घटना हुई है।

ये भी देखें : 24 उत्तर परगना, पटना, अगरतला और नई दिल्ली में CBI के छापे, कई दस्तावेज जब्त

जिस तरह से दबंग लोगों ने यहां की जमीनों पर कब्जा किया है मैं इसकी घोर निंदा करता हूं, उम्भा गांव का नरसंहार घटना जिला प्रशासन की ढिलाई और लापरवाही का नतीजा रहा है वरना यह घटना रोकी जा सकती थी। प्रदेश में भाजपा सरकार 4200 फर्जी इनकाउंटर किया है।

जाति देखकर एनकाउंटर किया जा रहा है जिसमें कि देश में आपराधिक घटनाएं बढ़ी है

जाति देखकर एनकाउंटर किया जा रहा है जिसमें कि देश में आपराधिक घटनाएं बढ़ी है। प्रधान का भाई बसपा से ताल्लुक रखता है इस सवाल पर सदन के नेता ने कहा कि बसपा की सरकार पक्षपात नहीं करती इसका उन्होंने एक उदाहरण जौनपुर के सांसद पर हुई कार्रवाई के रूप में दी इसके अलावा पार्टी द्वारा सहयोग राशि देने के सवाल पर कहा कि प्रतिनिधिमंडल पीड़ित गांव से लौटने के बाद बहन जी को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी उसके बाद बहनजी फैसला लेंगी।

ये भी देखें : भगवान राम के पुत्र महाराजा लव और कुश ने की थी, इस शिव मंदिर की स्थापना

इस दौरान विधानमंडल दल के नेता लालजी वर्मा प्रदेश अध्यक्ष आर एस कुशवाहा, दिनेश चंद्र, मुनकाद अली के अलावा तमाम बड़े नेता भी मौजूद रहे।

    Tags: