Top

संगम नगरी में सोनिया का इशारा,कांग्रेस में चलेगी प्रियंका की राजनीति

Admin

AdminBy Admin

Published on 12 Feb 2016 4:27 PM GMT

संगम नगरी में सोनिया का इशारा,कांग्रेस में चलेगी प्रियंका की राजनीति
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इलाहाबाद: लोकसभा के पिछले चुनाव में कांग्रेस की हुई दुर्दशा और पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी पर लगातार बढ़ते दवाब के बाद आखिरकार वो बेटी प्रियंका को राजनीति में लाने के लिए राजी हो गईं है। इस बात का इशारा उन्होंने इलाहाबाद में दिया। उन्होंने शुक्रवार देर रात अचानक यहां का दौरा किया। इसके बारे में किसी को कानों-कान खबर तक नहीं लगी। वो नेहरू गांधी परिवार के पैतृक निवास आनंद भवन और स्वराज भवन भी गईं। उन्होंने कमला नेहरू अस्पताल का दौरा भी किया।

प्रियंका को राजनीति में लाने के लिए पार्टी के नेता सोनियां गांधी से लगातार आग्रह करते रहे थे लेकिन उन्होंनें लगातार इसे नकारा था। देर रात भी कांग्रेस के कुछ नेताओं ने उनसे प्रियंका को इलाहाबाद से अगला लोकसभा चुनाव लड़ाने की गुजारिश की, जिस पर उन्होंनें सीधे हामी तो नहीं भरी, लेकिन ये जरूर कहा कि वो इस पर विचार करेंगी। ये पहला मौका है जब सोनिया प्रियंका को राजनीति में लाने पर विचार करने पर राजी हुई हैं। सोनिया ने कार्यकताओं को आगामी 2017 के विधानसभा चुनाव के लिए तैयारी करने के लिए भी कहा।

मीडिया से बनाई दूरी

सोनिया गांधी के इस पूरे कार्यक्रम को बेहद गोपनीय और निजी रखा गया। इस बीच उन्होंने मीडिया से भी दूरी बनाए रखी। मीडिया ने जब उनकी फोटो उतारनी चाही तो वो पीछे चली गईं। उनकी सुरक्षा में लगे एसपीजी के जवानों ने फोटो लेने से मना कर दिया।

तीन दिन का दौरा हो गया था रद्द

सोनिया गांधी का पहले तीन दिन का इलाहाबाद का दौरा होने वाला था, लेकिन माघ मेले, बसंत पंचमी के स्नान और सुरक्षा कारणों की वजह से इस कार्यक्रम को रद कर दिया गया था।

कांग्रेस नेताओं को भी नहीं लगी भनक

सोनिया का ये दौरा इतना गोपनीय रखा गया की किसी कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं को भी उनके यहां आने की भनक तक नहीं लगी। नेताओं का कहना है की इलाहाबाद नेहरू परिवार का अपना घर है और वो यहां पर कभी भी आ सकती हैं। हालांकि उनका ये भी कहना है की चूंकि वो कमला नेहरू ट्रस्ट की सर्वेसर्वा रही हैं इसलिए वो यहां के सारे कामों को भी निबटाने के लिए आती हैं।

Admin

Admin

Next Story