Top

ये चार पुलिस अधीक्षक छोड़ना चाहते हैं जिले की बागडोर, क्या है इसके पीछे का राज?

उत्तर प्रदेश में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव से पहले चार जिलों के पुलिस अधीक्षक ने छुट्टी की मांग की है। इन चारों अफसरों ने इसके पीछे निजी कारण बताया है।

Rahul Singh

Rahul SinghWritten By Rahul Singh

Published on 11 Jun 2021 9:00 AM GMT

चार पुलिस अधीक्षक छोड़ना चाहते हैं जिले की बागडोर, क्या है इसके पीछे का राज?
X

कॉसेप्ट फोटो, साभार-सोशल मीडिया

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उत्तर प्रदेश में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होने हैं। इस चुनाव के लिए सत्तारुढ़ भारतीय जनता पार्टी ने पूरी ताकत झोंक दिया है। इसी बीच यूपी पुलिस से एक ऐसी खबर निकलकर आ रही है। जिससे कई सवाल खड़े होने लगे हैं। चुनाव तैयारियों के बीच चार जिलों के पुलिस अधीक्षक ने निजी कारण बताकर अपनी पोस्टिंग से हटना चाहते हैं। बताया जाता है कि इन चारों जिलों के कप्तान ने निजी कारण बताते हुए अपने वरिष्ठ अधिकारियों से छुट्टी मांगी है। हालांकि, डीजीपी मुख्यालय व गृह विभाग के अधिकारी एसपी के अवकाश मांगे जाने की जानकारी से इंकार कर किया है, लेकिन सूत्रों के मुताबिक इन अधिकारियों ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को अवकाश के लिए प्रार्थना पत्र दिया है।

वहीं चार जिलों के एसपी की एकाएक छुट्टी मांगने की खबर अब सोशल मीडिया में छा गई है। इसको लेकर अलग-अलग तरह की चर्चाएं शुरू हो गई है। कुछ लोग इसे जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव से जोड़कर देख रहे हैं। कुछ लोग कह रहे हैं कि पंचायत चुनाव के बाद बदले समीकरणों के कारण कई जिलों के एसपी जिले की बागडोर छोड़कर किनारे का रास्ता तलाश रहे हैं। अभी जिन पुलिस अधीक्षकों के अवकाश मांगने का नाम सामने आ रहा है, उसमें प्रतापगढ़ के एसपी आकाश तोमर 12 जून तक छुट्टी पर हैं और वह इसे आगे भी बढ़ा सकते हैं। क्योंकि प्रयागराज में गंगा पार एसपी के रूप में तैनात धवल जायसवाल प्रतापगढ़ पहुंचकर प्रभारी पुलिस अधीक्षक की जिम्मेदारी संभाल ली है।

सूत्रों के मुताबिक आकाश तोमर के अलावा जौनपुर के एसपी राजकरन नैय्यर के बारे में कहा जा रहा है कि वह डीएम के साथ सिर्फ बैठकों में शामिल हो रहे हैं। अमरोहा की एसपी सुनीति और वाराणसी के एसपी देहात अमित वर्मा ने भी निजी कारणों से अवकाश मांगा है। इसके साथ ही एक अन्य जिले के एसपी की ओर से भी निजी कारणों से छुट्टी मांगने की चर्चाएं तेज हैं। यही वजह है कि पुलिस विभाग में भी इसे लेकर अटकलें लगनी शुरू हो गई हैं। इन जिलों की जल्द कमान बदले जाने की बात भी कही जा रही है। शासन ने गुरुवार को ही 10 आईपीएस अधिकारियों की स्थानांतरण सूची जारी की है।

यूपी में 10 आईपीएस अफसरों का तबादला

वहीं, गुरुवार को यूपी सरकार ने 10 आईपीएस अफसरों का ट्रांसफर किया था। इस बार आईपीएस वैभव कृष्ण को भी तैनाती दी गई है। वह नोएडा में हनी ट्रैप मामले के बाद से साइड लाइन चल रहे थे। वह एसपी (सुरक्षा मुख्यालय) पद पर भेजे गए हैं। विश्वजीत महापात्र डीजी (सिविल डिफेंस) बनाए गए हैं, वहीं सतीश माथुर को एडीजी (रूल्स मैनुअल्स) के तौर पर नियुक्ति मिली है। डीआईजी स्थापना और कानून व्यवस्था का काम देख रहे धर्मेंद्र सिंह को डीआईजी ट्रैफिक पुलिस बनाया गया है। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से लौटीं अलंकृता सिंह को एसपी 1090 की जिम्‍मेदारी दी गई है। इनके अलावा वैभव कृष्ण को एसपी सुरक्षा मुख्यालय पद पर तैनाती दी गई है, वहीं केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से वापस आए अखिलेश चौरसिया 11वीं पीएसी सीतापुर के सेनानायक होंगे। इसी तरह सुनील सिंह 10वीं पीएसी बाराबंकी के सेनानायक, मोहम्मद इमरान बने एसपी रेलवे झांसी, एन रविंदर बने एडीजी विजिलेंस और सुनील गुप्ता डीआईजी सुरक्षा वाईटल इंस्टालेशन बनाए गए हैं।





Rahul Singh

Rahul Singh

Next Story