Top

संकट में स्वामी प्रसाद की विधानसभा सदस्यता, जारी हुआ नोटिस

By

Published on 29 Jun 2016 4:31 PM GMT

संकट में स्वामी प्रसाद की विधानसभा सदस्यता, जारी हुआ नोटिस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से इस्तीफा देने के बाद से ही स्वामी प्रसाद मौर्या के बोल तीखे रहे हैं। यहां तक की बसपा सुप्रीमो मायावती और उनके बीच आरोपों-प्रत्यारोपों का भी दौर चला और अब उसी कड़ी में बसपा की तरफ से मौर्या की विधानसभा सदस्यता समाप्त करने की याचिका प्रमुख सचिव विधानसभा के समक्ष पेश की गई है। विधानसभा में नेता विरोधी दल गया चरण दिनकर ने इसकी पुष्टि की है।

यह भी पढ़ें ...सपा और बसपा के आपसी झगड़े से बीजेपी की हो रही बल्ले बल्ले

मौर्या से मांगा गया स्पष्टीकरण, नोटिस जारी

गया चरण दिनकर ने बताया कि इस पर विधानसभा की तरफ से स्वामी प्रसाद मौर्या को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा गया है। उनका कहना है कि जब कोई नेता स्वेच्छा से दल से इस्तीफा देता है तो नियमों के मुताबिक, उसकी उस पार्टी के सिंबल से विधानसभा सदस्यता कायम नहीं रह सकती है।

यह भी पढ़ें ... नीतीश के शराबबंदी कार्यक्रम में लगे अश्लील ठुमके, लोग हुए बेकाबू

कह चुके हैं मौर्या, जनता करेगी फैसला

इससे पहले स्वामी प्रसाद मौर्या ने अपने पद से इस्तीफा देने के दौरान ही कहा था कि अब उनकी विधानसभा सदस्यता रहेगी या नहीं इसका फैसला उनके निर्वाचन क्षेत्र की जनता तय करेगी।

यह भी पढ़ें ...स्वामी प्रसाद मौर्या के इस्तीफे पर बोलीं मायावती- पार्टी पर उपकार किया

क्या कहते हैं जानकार

जानकारों के मुताबिक नियम के तहत विधानसभा चुनाव में यदि छह महीने से ज्यादा का समय होता है तो उपचुनाव आवश्यक हो जाता है लेकिन शर्त यह है कि दल का नेता विधानसभा अध्यक्ष को पार्टी से इस्तीफा देकर गए विधायक के बारे में लिखित में दें।

Next Story