Top

मिड-डे मील सिस्टम का उड़ रहा माखौल, फीडबैक लेने में गड़बड़ी उजागर

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 27 July 2016 6:04 PM GMT

मिड-डे मील सिस्टम का उड़ रहा माखौल, फीडबैक लेने में गड़बड़ी उजागर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

yogesh-mishra Yogesh Mishra

लखनऊः यूपी में चल रही मिड-डे मील योजना के लिए इन दिनों कई नए प्रयास किए जा रहे हैं। पर ये प्रयास कागजों पर और जमीन पर कैसे दौड़ते हैं इसका अंतर साफ देखा जा सकता है। सूबे में मिड-डे मील में अब दूध भी दिया जाने लगा है। कितने बच्चों ने दूध पिया, इसे चेक करने के लिए बाकायदा फीडबैक सिस्टम है। इस फीडबैक सिस्टम का जमकर माखौल उड़ रहा है। यह काम करने वाली कंपनी फोन तो कर रही है, पर जिन्हें फोन कर रही है उनका प्राथमिक शिक्षा या विभाग से कोई लेना देना नहीं है।

कैसे उड़ रहा है मजाक?

मिड-डे मील के तहत यूपी सरकार ने अब बच्चों को दूध देने की योजना बनाई है। इस योजना को चेक करने के लिए एक कंपनी को ऑनलाइन सर्वे करने का ठेका दिया गया है। कंपनी को टीचरों को फोन कर पता करना है कि कितने बच्चों ने दूध पिया। उनके स्कूल में कितने बच्चे पढ़ते हैं। कितने आए थे, कितनों ने मिड-डे मील में दूध पिया। इस कपनी को हैश दबाकर बच्चों की सख्या फीड भी करवानी है। सुनने में तो यह योजना काफी अच्छी और फूलप्रूफ लगती है। पर बुधवार की शाम 5 बजकर 11 मिनट पर फीडबैक लिए जाने की पोल खुल गई। इस कंपनी ने अपने फोन नंबर 0522-4027707 से फोन कर ऐसे व्यक्ति से फीडबैक मांगे, जिसका न तो शिक्षा से कोई मतलब है न ही उसका वास्ता माध्यमिक शिक्षा से है। ये व्यक्ति पेशे से पत्रकार हैं।

क्यों होता है ऐसा?

दरअसल ऐसा इसलिए होता है कि जो कंपनी सर्वे या फीडबैक का काम कर रही है उसे डाटा खरीदना होता है। यह डाटा आम लोगों का फोन नंबर होता है जबकि अगर विशेष डाटा खरीदना हो तो उसे ज्यादा पैसे खर्च करने होते हैं। ऐसे में आम डाटा, जिसमें डाक्टर, टीचर आदि का वर्गीकरण न हो उसे ही खरीदकर काम चला लिया जाता है। ऐसा करने से पैसे तो बचते हैं, पर सर्वे किस तरह हो रहा है इसकी कलई खुल गई है। और इस बात की भी कि यूपी की योजनाएं किस तरह दौड़ रही हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story