×

Tamkuhi Raj Election results 2022: राजा का साथ छूटने से लल्लू की विधानसभा की रूकी राह

Tamkuhi Raj Election results 2022: यूपी चुनाव में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू तमकुहीराज सीट से चुनाव हार गए हैं। लल्लू के हार का कारण आरपीएन सिंह का BJP में शामिल होना माना जा है।

Mohan Suryavanshi
Updated on: 10 March 2022 2:48 PM GMT
Ajay Kumar Lallu
X

अजय कुमार लल्लू (तस्वीर साभार : सोशल मीडिया) 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Tamkuhi Raj Election results 2022: कुशीनगर जनपद के तमकुहीराज विधानसभा सीट पर लगातार दो बार से अजय कुमार लल्लू (Ajay Kumar Lallu) कांग्रेस के टिकट पर विधायक चुने जा रहे थे। उस समय आरपीएन सिंह(राजा) (RPN Singh) कांग्रेस (Congress) के बड़े नेता थे। उनका हर तरह का सहयोग अजय कुमार लल्लू को मिलता था। लल्लू की भी गिनती जमीनी नेताओ में होती हैं। गरीबों, किसानों की आवाज हमेशा सड़क से लेकर विधानसभा तक उठाते रहे हैं। लेकिन इस बार उनका साथ राजा से बिछड़ गया था। आरपीएन सिंह भाजपा में चले गए और अजय कुमार लल्लू जनपद में कांग्रेस के इकलौते नेता रह गए। हालांकि लल्लू ने आरपीएन सिंह पर तरह तरह का आरोप भी लगाया जो उनके लिए नुकसानदेह साबित हुआ।

प्रियंका ने अजय कुमार लल्लू के लिए की थी चुनावी जन सभा

प्रियंका गांधी ने तमकुही के एक इंटर कॉलेज के मैदान में अजय कुमार लल्लू के पक्ष में चुनावी सभा की थी। चुनावी सभा के दौरान प्रियंका गांधी लगातार लल्लू की तारीफ की थी। उनके साथ मोटरसाइकिल पर बैठकर रोड शो करते हुए उनके घर तक गई थी। प्रियंका की सारी युक्ति धरी की धरी रह गई और इस चुनाव में जनता ने अजय लल्लू को तीसरे पायदान पर भेज दिया।

छात्र संघ से शुरू किया राजनीतिक सफर

गांधी परिवार के करीबी उप्र कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के राजनीतिक सफ़र किसान पीजी कॉलेज में वर्ष 2000में छात्र संघ के पदाधिकारी चुने जाने के बाद से हुई। अजय कुमार ने डॉ पीके राय के खिलाफ़ वर्ष 2007 में निर्दल विधानसभा चुनाव लड़े लेकिन सपा के डॉ पीके राय से करारी हार का सामना करना पड़ा। इस चुनाव के बाद लल्लू कुंवर आरपीएन सिंह के सन्निकट आये और कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर लिये। 2012 के चुनाव में टिकट भी पा लिए। भौगोलिक रूप से बिहार सीमा से सटा हुआ तमकुहीराज विधानसभा वर्ष 2012 के विधान सभा चुनाव में इनको सफलता मिली और विधान सभा में पहली बार पहुँचें। 2017 में कांग्रेस का सपा से गठबंधन हो गया।जिसमें यह सीट कांग्रेस की खाते में जाने से पार्टी ने अजय लल्लू के लिए एक बार टिकट दिया। इस बार चुनाव में पुनः सफलता मिली।

चुनावी सभा में प्रियंका ने लल्लू को बताया था संघर्षों का मजबूत साथी

कुशीनगर जनपद के सेवरही के लोकमान्य तिलक इंटर कॉलेज में कांग्रेस पार्टी की चुनावी सभा सभा में कांग्रेसी नेता प्रियंका गांधी ने लल्लू को संघर्षों का सबसे मजबूत साथी बताया था। लल्लू को सम्मान देते हुए कहा था कि लल्लू हमेशा गरीबों का साथ दिए हैं हम लोगों से बार-बार कहते थे कि जो गरीब मजबूर संकट में है उनके पास चला जाए और उनकी मदद की जाए इन्होंने हमेशा जाति धर्म से ऊपर उठकर सभी के लिए संघर्ष किया। उसके लिए इन्हें जेल भी जाना पड़ा। लल्लू के प्रदेश अध्यक्ष बनने की बात को भी प्रियंका ने बताया कि जब नए प्रदेश अध्यक्ष की बात तो हम भाई बहनों में चल रही थी तो हमने अपने भाई राहुल से पूछा कि कोई ऐसा प्रदेश अध्यक्ष बनाया जाए जो निर्भय होकर संघर्ष करें मेरे भाई ने एक ही नेता का नाम सुझाया की वह नेता अजय लल्लू है जो संघर्ष के साथ खड़े रहेंगे।

Bishwa Maurya

Bishwa Maurya

Next Story