लोटा लुढ़कते-लुढ़कते लुढ़क गया, ट्रांसलेट ना करने पर सिपाहियों ने पीटा

Published by Admin Published: March 12, 2016 | 12:36 pm
Modified: August 10, 2016 | 2:48 am

कानपुर: नशे में धुत सिपाहियों ने एक टीचर की जमकर पिटाई कर दी। टीचर की पिटाई सिर्फ इसलिए हुई क्योंकि वह ‘लोटा लुढ़कते-लुढ़कते लुढ़क गया’ का इंग्लिश ट्रांसलेशन नहीं कर पाया। सिपाहियों ने टीचर के 1500 रुपए और मोबाइल हेडफोन भी छीन लिए।

क्या है मामला ?
-घटना कानपुर के बर्रा थानाक्षेत्र के गुजैनी क्षेत्र की है।
-टीचर श्याम जी बाजपेयी बर्रा इलाके के विश्व बैंक कॉलोनी में रहते हैं।
-शुक्रवार देर शाम वह अपनी मोटर साइकिल से कोचिंग पढ़ा कर घर जा रहे थे।
-रास्ते में उन्हें दो सिपाहियों ने रोक लिया, जिसमें एक शराब के नशे में धुत था।
-सिपाहियों ने टीचर से अभद्र भाषा का प्रयोग किया।
-सिपाहियों ने टीचर से पूछा अगर तुम टीचर हो तो एक इंग्लिश ट्रांसलेट करके बताओ।

ट्रांसलेट न करने पर की पिटाई
-सिपाहियों ने टीचर से ‘लोटा लुढ़कते-लुढ़कते लुढ़क गया’ का इंग्लिश ट्रांसलेट करने को कहा था।
-टीचर ने सिपाहियों की बात को बकवास बता कर ट्रांसलेट न करने का विरोध किया।
-इस बात पर दोनों सिपाहियों ने टीचर की जमकर पिटाई कर दी।
-सिपाहियों ने श्याम जी से 1500 रुपए और मोबाइल हेडफोन छीनकर भगा दिया।

टीचर ने पुलिस से की शिकायत
-टीचर श्याम जी ने बर्रा थाने पहुंचकर एसओ से इस घटना की लिखित शिकायत की है।
-एसओ ने सिपाहियों की पहचान पीड़ित से कराई है।
-पीड़ित ने एक सिपाही की पहचान अरुण व दूसरे की दुर्गेश के रूप में की है।
-पीड़ित के अनुसार बर्रा एसओ ने उन्हें आरोपी सिपाहियों पर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है ।

सुनिए टीचर का दर्द

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App