Top

बाघिन के बच्चें मिले 10 दिन बाद, टाइगर रिजर्व टीम ने किया रेस्क्यू, भेजा लखनऊ

एक मां अपने बच्चों को बाघ से बचाते हुए खुद बाघ की शिकार हो गई। जी हां आपने सही सुना है। वहीं अपनी मां के मरने के बाद से यह बच्चे अनाथ हो गए। यह अनाथ बच्चे दूसरे जानवरों से अपनी जान बचा..

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 25 March 2021 9:09 AM GMT

बाघिन के बच्चें मिले 10 दिन बाद, टाइगर रिजर्व टीम ने किया रेस्क्यू, भेजा लखनऊ
X
बाघिन के बच्चें मिले 10 दिन बाद, टाइगर रिजर्व टीम ने किया रेस्क्यू, भेजा लखनऊ
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पीलीभीतः एक मां अपने बच्चों को बाघ से बचाते हुए खुद बाघ की शिकार हो गई। जी हां आपने सही सुना है। वहीं अपनी मां के मरने के बाद से यह बच्चे अनाथ हो गए। यह अनाथ बच्चे दूसरे जानवरों से अपनी जान बचा रहे है। जिसे पीलीभीत टाइगर रिजर्व टीम ने ढूढ़ लिया।

क्या है पूरा मामला-

आप को बता दें कि एक बाघिन अपने चार बच्चों के साथ घूम रही थी। तभी एक दूसरे बाघ की नजर उन पर पड़ी। और वह बाघ उन बच्चों के तरफ लपका। यह देख मां बाघिन अपने बच्चों की जान बचाने के लिए उस बाघ से भिड़ गई। दोनों के बीच काफी संघर्ष हुआ। जिसेक बाद से बाघ वहां से भाग गया। लेकिन बाघिन बुरी तरह से जख्मी हो गई। और उसी दिन बाघिन की मौत हो गई। एक मां अपने बच्चों की जान बचाने के लिए बाघ के हमले का शिकार हो गई। लेकिन अपने बच्चों पर एक भी खरौंच नहीं आने दी।

देखें वीडियोः

[video width="640" height="352" mp4="https://newstrack.com/wp-content/uploads/2021/03/WhatsApp-Video-2021-03-25-at-2.59.25-PM.mp4"][/video]

यह चारों बच्चे गायब हो गयेः

आप को बता दें कि 14 मार्च को टाइगर रिजर्व प्रशासन को बाघिन का शव मिला। लेकिन इस बाघिन के चारों बच्चे वहां से गायब थे। सबसे चिंता की बात यह रही कि यह सभी बच्चे महज तीन महीने के थे। ये इतने छोटे थे कि जंगल के दूसरे जानवर से यह अपनी हिफाज़त नहीं कर सकते थे।

ये भी पढ़ेंःतहसीलदार ने 15 लाख रुपए का किया होलिका दहन, जानें क्यों जलानी पड़ी नोट

वन विभाग ने ऑपरेशन चलायाः

इसके बाद से वन विभाग ने एक बड़ा ऑपरेशन चलाया। जिसमे दो टीमें का गठन किया गया। यह दोनों टीमें ने रात दिन बच्चों को ढूंढने के लिए जंगल को छान लिया। जबकी जंगल मे 25 कैमरे भी लगाए गए थे। आखिरकार इन टीमें की महनत रंग लायी। और यह आज 10 दिन बाद ये चारो बच्चे सुरक्षित ढूढं लिया।ये भी पढ़ेंःबस्ती का हैवान तांत्रिकः किशोरी को बनाया हवस का शिकार, आरोपी गिरफ्तार

टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर जावेद अख्तर ने बताया कि है कि ये बच्चे स्वस्थ्य है इन्हें लखनऊ ज़ू भेजा जा रहा है टाइगर रिजर्व टीम बधाई की पात्र है कि उसने हिम्मत नही हारी और 4 अनाथ बच्चो को इतने घने व बड़े जंगल से खुद का खतरा उठाते हुए बचा लिया है।

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

रिपोर्टरः देश दीपक गंगवार

Newstrack

Newstrack

Next Story