विधानसभा में उठा काफी हाउस पर हो रहे अवैध कब्जे का मामला

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि हमारी सरकारों ने कभी नहीं कहा कि हम 90 दिन सदन चलायेंगे लेकिन आपकी सरकार ने ऐसा कहा है और विपक्ष तैयार भी है तो आपको सदन चलाने में क्या आपत्ति है। इस पर संसदीय कार्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष सदन में कुछ और बात करता है और कार्यमंत्रणा समिति में दूसरी बात करता है।

गवर्नर राम नाईक ने UP विधानसभा के अध्यक्ष पद के चुनाव की तारीख 30 मार्च तय की

लखनऊ: यूपी की विधानसभा में आज लखनऊ के हजरतगंज स्थित काफी हाउस का मामला उठा। विपक्ष की तरफ से काफी हाउस के गौरवमयी इतिहास को देखते हुए इसे बचाने की गुहार लगाई गयी। विपक्ष ने कहा कि कुछ लोग इस पर अवैध कब्जा करना चाहते हैं। इसलिए सरकार इस पर कोई कदम उठाए।

शून्यप्रहर के दौरान नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चैधरी ने राजधानी लखनऊ स्थित काॅफी हाउस का मामला उठाते हुए कहा कि काॅफी हाउस तमाम राजनीतिक नेताओं, साहित्यकारों, पत्रकारों, कलाकारों, समाज के विभिन्न वर्गों से जुडे़ लोगों के मिलने, बैठने और चर्चा करने का केन्द्र रहा है। लेकिन आज काॅफी हाउस पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। भूमाफिया- इसे अपने नाम कराना चाहते हैं। इसलिए राज्य सरकार इसे अधिग्रहित कर कर्मचारी कल्याण निगम या अपने स्तर से संचालित कराये। इस पर संसदीय कार्य मंत्री ने सदन को आश्वस्त किया कि हम इसे दिखवा लेंगे अद्यतन स्थिति की जानकारी करने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि जानकारी करने के बाद सदन को अवगत करा देंगे।

बसपा नेता लालजी वर्मा ने बजट की अनुदान मांगों पर 24 दिन चर्चा कराये जाने का मामला उठाया

इससे पूर्व शून्य काल में बसपा नेता लालजी वर्मा ने बजट की अनुदान मांगों पर 24 दिन चर्चा कराये जाने का मामला उठाया। नेता प्रतिपक्ष ने इस मामले पर उनका समर्थन किया और कहा कि विपक्ष सहयोग कर रहा है तो सरकार सदन की कार्यवाही को ज्यादा दिन तक चलाये। इस पर संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि बसपा सरकार ने अपने कार्यकाल में मात्र 13 दिन सदन चलाने का रिकार्ड कायम किया तो सपा ने एक ही दिन में 41 अनुदानित मांगों को पास कराने का रिकार्ड बना रखा है।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि हमारी सरकारों ने कभी नहीं कहा कि हम 90 दिन सदन चलायेंगे लेकिन आपकी सरकार ने ऐसा कहा है और विपक्ष तैयार भी है तो आपको सदन चलाने में क्या आपत्ति है। इस पर संसदीय कार्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष सदन में कुछ और बात करता है और कार्यमंत्रणा समिति में दूसरी बात करता है।