Top

बाघ से लड़ता रहा बहादुर युवक, जख्मी होने के बाद भी नहीं मानी हार

By

Published on 19 May 2016 12:18 PM GMT

बाघ से लड़ता रहा बहादुर युवक, जख्मी होने के बाद भी नहीं मानी हार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखीमपुर-खीरी: निघासन थाना क्षेत्र में गुरुवार को एक बाघ ने मंदिर जा रहे एक युवक पर हमला कर दिया। मदद के लिए गुहार लगाने की बजाए युवक भी बाघ से भिड़ गया। करीब दस मिनट तक दोनों एक-दूसरे से लड़ते रहे। आखिरकार बाघ जंगल की ओर भाग निकला।

क्या है मामला ?

घटना निघासन थाना क्षेत्र के ग्राम बौधिया कलां की है। जहां मधुबन यादव (55) गुरुवार की सुबह करीब 9 बजे गांव में ही काली मंदिर गया था। वहां जंगल से निकलकर आए एक बाघ ने उस पर हमला बोल दिया। इस हमले में घबराने और बचकर निकलने की बजाए मधुबन भी बाघ से भिड़ गया।

नहीं मानी हार

फेंट में फंसा हंसिया निकालकर उसने भी बाघ पर हमला कर दिया। बाघ और मधुबन दोनों करीब 10 मिनट तक एक-दूसरे से लड़ते रहे। हमले में बाघ ने युवक का चेहरा बुरी तरह से नोंच डाला। दर्द से कराहने के बावजूद मधुबन ने हिम्मत नहीं हारी और बाघ पर हमले जारी रखे। आखिरकार उसके हमले से बाघ वापस जंगल की ओर भाग गया।

युवक की हालत गंभीर

बाघ के जाने के बाद मधुबन मौके पर ही गिर गया। ग्रामीण मौके पर पहुंचे और मधुबन के परिजनों को इसकी सूचना दी। एम्बुलेंस बुलाने के लिए 108 नंबर पर फोन किया गया। बताया गया कि एम्बुलेंस वाला तिकुनियां में है। इसके बाद आनन-फानन दूसरी गाडी की व्यवस्था की गई। घायल को सीएचसी निघासन लाया गया लेकिन डॉक्टर्स ने उसे डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल भेज दिया। हॉस्पिटल लाने के बाद डॉक्टर्स ने अपने हाथ खड़े कर दिए और प्राथमिक उपचार कर उसे लखनऊ रेफर कर दिया है। जहां मधुबन की हालत गंभीर बनी हुई है।

Next Story