लखनऊ-वाराणसी रूट पर जल्द चलेंगी इलेक्ट्रिक इंजन से रेलगाड़ियां

वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक जगतोष शुक्ल ने गुरुवार को बताया कि लखनऊ-वाराणसी रेलखंड पर 20 मई के बाद 15 ट्रेनों को इलेक्ट्रिक इंजन से चलाया जाएगा। इसके लिए तैयारियां तेजी से चल रही है। उन्होंने बताया कि लखनऊ के उतरेटिया से श्रीराजनगर तक रेल विद्युतीकरण के साथ दोहरीकरण का काम पूरा हो गया है।

लखनऊ: रेलवे प्रशासन लखनऊ-वाराणसी रेलखंड पर 20 मई के बाद 15 ट्रेनों को इलेक्ट्रिक इंजन से चलाएगा। इसके लिए तैयारियां तेजी से चल रही है।

वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक जगतोष शुक्ल ने गुरुवार को बताया कि लखनऊ-वाराणसी रेलखंड पर 20 मई के बाद 15 ट्रेनों को इलेक्ट्रिक इंजन से चलाया जाएगा। इसके लिए तैयारियां तेजी से चल रही है। उन्होंने बताया कि लखनऊ के उतरेटिया से श्रीराजनगर तक रेल विद्युतीकरण के साथ दोहरीकरण का काम पूरा हो गया है। रायबरेली होकर लखनऊ से वाराणसी तक के रूट का रेल संरक्षा आयुक्त निरीक्षण भी कर चुके हैं। उनसे ट्रेन संचालन की क्लीयरेंस जल्द ही मिलने वाली है।

ये भी देखें : हरदोई में पकड़ी गई नकली परिवहन विभाग की रोडवेज बस

वाणिज्य प्रबंधक ने बताया कि श्रीराजनगर से जंघई होते हुए वाराणसी तक के रूट का विद्युतीकरण का कार्य काफी पहले पूरा हो गया था। इसलिए रेलवे बोर्ड ने लखनऊ-वाराणसी रूट पर 15 ट्रेनों को इलेक्ट्रिक इंजन से दौड़ाने की मंजूरी दे दी है।

उन्होंने बताया कि 14257/58 काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस, 14203/04 वाराणसी इंटरसिटी, 14207/08 पद्मावत एक्सप्रेस, 13005/06 पंजाब मेल, 14259/60 एकात्मकता एक्सप्रेस, 22407/08 वाराणसी-आनंद विहार गरीब रथ, 12355/56 अर्चना एक्सप्रेस, 12875/76 नीलांचल एक्सप्रेस, 14123/24 प्रतापगढ़-कानपुर इंटरसिटी, 12173/74 उद्योगनगरी एक्सप्रेस, 14219/20 वाराणसी इंटरसिटी, 12183/84 प्रतापगढ़-भोपाल एक्सप्रेस, 14265/66 जनता एक्सप्रेस, 54255/56 लखनऊ-वाराणसी पैसेंजर और 54293/94 लखनऊ-प्रतापगढ़ पैसेंजर में इलेक्ट्रिक इंजन लगाए जाएंगे। इलेक्ट्रिक इंजन के लगने से ईंधन पर व्यय होने वाला खर्च घटेगा और ट्रेनों की रफ्तार भी बढ़ेगी।