×

Fake Release Order Case: सोनभद्र पहुंची परिवहन आयुक्त की अगुवाई वाली टीम, जांच में मिले 116 मामले

Sonbhadra: फर्जी रिलीज ऑर्डर मामले में आज परिवहन आयुक्त सुरेंद्र कुमार की अगुवाई वाली टीम सोनभद्र पहुंची। अब तक की जांच में 116 फर्जी रिलीज ऑर्डर के मामले सामने आए हैं।

Kaushlendra Pandey
Updated on: 5 Aug 2022 3:40 PM GMT
Sonbhadra News In Hindi
X

सोनभद्र पहुंची परिवहन आयुक्त की अगुवाई वाली टीम

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Sonbhadra: परिवहन विभाग (transport Department) के फर्जी रिलीज ऑर्डर (fake release order) पर छोड़े गए वाहनों की आंच शासन तक पहुंच गई है। शासन के निर्देश पर शुक्रवार को सोनभद्र पहुंची परिवहन आयुक्त यूपी सुरेंद्र कुमार (Transport Commissioner UP Surendra Kumar) की अगुवाई वाली टीम ने दफ्तर पहुंच घंटों रिकर्ड की जांच की। अप्रैल 2021 से अब तक छोड़े गए वाहन और उसके एवज में जमा कराई गई राशि को जमा करने की तिथिवार जानकारी ली गई। अब तक की जांच में 116 फर्जी रिलीज ऑर्डर के मामले सामने आए हैं। उसमें 56 के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी है। शेष 50 के खिलाफ भी एफआईआर के निर्देश दिए गए हैं।

जांच को लेकर बना रहा गहमागहमी का माहौल

जिले के परिवहन विभाग (transport Department) के दफ्तर में लगातार दूसरे दिन शुक्रवार को भी जांच को लेकर गहमागहमी का माहौल बना रहा। परिवहन आयुक्त सुरेंद्र कुमार की अगुवाई में पहुंचे उप परिवहन आयुक्त वाराणसी अशोक कुमार, आरटीओ संजय तिवारी और आरटीओ प्रवर्तन राजेश कुमार वर्मा ने देर शाम तक वाहनों की रिलीजिंग, वाहनों से जमा कराई गई जुर्माने की राशि, राजकीय कोष में जमा करने के लेखे-जोखे की जांच की। एआरटीओ, आरआई, संबंधित लिपिकों से भी बारी-बारी से पूछताछ कर जानकारी हासिल की।

फर्जी रिलीज ऑर्डर को लेकर की जा रही है जांच: आयुक्त

उधर, परिवहन आयुक्त सुरेंद्र कुमार (Transport Commissioner UP Surendra Kumar) ने बताया कि पिछले कई महीने से फर्जी रिलीज ऑर्डर के जरिए थानों में बंद की जा रही गाड़ियों को छुड़ाए जाने का खेल खेला जा रहा था। विभागीय स्तर से इसकी जांच भी चल रही थी। अभी भी जांच जारी है। जैसे-जैसे जानकारी सामने आ रही है। वैसे-वैसे एफआईआर दर्ज कराई जा रही है। इसमें विभागीय स्तर पर किस तरह की संलिप्तता है। अभी इस पर कुछ कहा नहीं जा सकता, न ही इससे अभी इंकार किया जा सकता है क्योंकि अभी जांच चल रही है। इतनु बड़ी गड़बड़ी कैसे हुई, उसकी पूरी छानबीन की जा रही है। पुलिस इस मामले में जांच तो कर ही रही है। विभागीय स्तर पर भी इसको लेकर जहां जांच कराई जा रही है। एक-एक चीज का रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

मामला उजागर होने पर अधिकारियों के उड़े होश

बता दें कि इस मामले का सबसे पहले न्यूज़ ट्रैक नै खुलासा किया था। विभागीय अधिकारी कई दिन तक, छोटा मामला बताकर टरकाने में लगे हुए थे लेकिन धीरे-धीरे जिस तरह के खुलासे सामने आ रहे हैं। उसने परिवहन कार्यालय में बैठे अधिकारियों सबके होश उड़ा दिए हैं। कहा जा रहा है कि जो गाड़ियां छोड़ी गई हैं उनके संबंध पूर्वांचल के कई चर्चित शख्सियतों से भी जुड़े हुए हैं। ऐसे में आगे चलकर इस मामले की जांच सियासी तपिश का भी कारण भी बनती नजर आए तो बड़ी बात नहीं होगी।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story