Top

गांव मे खाना बनाते समय लगी आग, दो मासूमों सहित दर्जनों झोपड़ियां जली

Admin

AdminBy Admin

Published on 25 April 2016 11:07 AM GMT

गांव मे खाना बनाते समय लगी आग, दो मासूमों सहित दर्जनों झोपड़ियां जली
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर: खजनी के नटिनी गांव में आग से 2 बच्चों की मौत हो गई और दर्जनों घर जल गए। उस गांव में विवाह समारोह के दौरान खाना बनाते समय आग लग गई। जिसमें 1 दर्जन झोपड़ियां जलकर खाक हो गई। यह आग रविवार को लगी।

कैसे लगी आग?

-सुबह से चल रही तेज पछुआ हवाएं के कारण आग की घटनाओं ने चंद मिनटों में ही विकराल रुप ले लिया।

-दमकल की गाड़ियों को आग पर काबू पाने में काफी मशक्कतों का सामना करना पड़ा।

-वही आग की लपट ने गांव में ही मुकेश की झोपड़ी को भी अपनी चपेट में ले लिया।

-इसमें दो बच्चो की भी मौत हो गई।

gorakhpur

क्या था मामला?

-खजनी थाना अंतर्गत नटिनी गांव में रामदयाल की बेटी सोनू की शादी थी।

-दोपहर के खाने की तैयारी चल रही थी। घर के बाहर चूल्हे पर भोजन बनाने का कार्य चल रहा था।

-इसी बीच चिंगारी से बगल में मुकेश की झोपड़ी में रखे भूसे में आग आग पकड़ ली।

-तेज हवा के कारण आग की लपट में मुकेश की झोपड़ी सहित गांव के एक दर्जन से ज्यादा लोगों की झोपड़ियां को अपनी चपेट में ले लिया।

-इससे पूरे गांव में कोहराम मच गया।

-हवा इतनी तेज थी कि मुकेश के सो रहे दो बच्चे शिवम 4 वर्ष और संगिनी 6 वर्ष को बाहर निकालने का मौका ही नहीं मिला।

-उनकी जल कर मौके पर ही उनकी मौत हो गई। राख के ढेर मे उनके कंकाल मिले।

gorakhapur-2

फायर ब्रिगेड की गाड़ी देर से पहुंची

-घटना की सूचना मिलते ही कई थानों की पुलिस ,एसडीएम ,तहसीलदार, पीएससी और दमकल गाड़िया घटनास्थल पर पहुंच गई।

-ग्रामीणों ने बताया कि तेज हवा होने की वजह से गांव के राम जी और रामपाल यादव की झोपड़ियां भी जलकर खाक हो गई।

-दमकल की गाड़ियां देर से पहुंचने पर ग्रामीणों का गुस्सा सातवें आसमान पर दिखा ।

पीड़ितों को मिलेगी आर्थिक मदद

-घटना की जानकारी देते हुए एसडीएम खजनी अभय कुमार मिश्रा ने बताया की नटिनी गांव में दोपहर के समय आग लग गई थी।

-इसके कारणों का पता नहीं चल पाया है।

-गांव वालों ने बताया की मुकेश जो कि बाहर रह कर काम करता है, उसके परिवार के दो बच्चे घर में सो रहे थे।

-इस आग की चपेट में जल गए परिजनों को बाद में पता चला।

-शासन प्रशासन की तरफ से जो भी आर्थिक मदद होगी उसे तत्काल पीड़ित परिवार को दिए जाएगा।

Admin

Admin

Next Story