×

जौनपुर की दो बेटियां: गांव की पगडंडियों से चलकर क्रिकेट में हासिल किया बड़ा मुकाम

जनपद की दो बेटियों ने भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा बनकर अपने परिवार ही नहीं पूरे जनपद का नाम रौशन किया है । फरवरी माह 2020 मे शुरू हो रहे आईसीसी महिला...

Deepak Raj

Deepak RajBy Deepak Raj

Published on 16 Jan 2020 10:53 AM GMT

जौनपुर की दो बेटियां:  गांव की पगडंडियों से चलकर क्रिकेट में हासिल किया बड़ा मुकाम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कपिल देव मौर्या

जौनपुर। दोनों का नाम शिखा पाण्डेय चन्दवक मचहटी तो दूसरी राधा यादव मड़ियाहू के अजोसी गांव की मूल निवासी है । दोनों बेटियां 31जनवरी से आस्ट्रेलिया में शुरू होने वाली त्रिकोणीय सीरीज में भी अपना जलवा बिखेरते हुए जौहर दिखायेगी ।

जनपद वासी भी गौरव महसूस करते नजर आ रहे है

इनके चयन की सूचना पर दोनों के गांव में जश्न का माहौल हो गया था तो जनपद वासी भी गौरव महसूस करते नजर आ रहे है । इनके शुभचिंतकों द्वारा दोनों के परिवारों को बधाईयाँ ज्ञापित की जा रही है ।

ये भी पढ़ें-

यहाँ बता दें कि जिले की सरजमीं का पूर्वी क्षेत्र डोभी अब तक क्रांतिकारियों और विद्वानों के लिए अपनी पहचान रखता रहा है लेकिन मचहटी गांव के सुबाष पाण्डेय की होनहार पुत्री ने क्रिकेट की दुनिया में धमाल मचाते हुए अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रख कर क्षेत्र का नाम खेल में भी स्थापित कर दिया है।

विश्व कप के लिए भारतीय टीम का हिस्सा बन गयी है

मिली खबर के अनुसार कैम्पस सलेक्सन के बाद शिखा ने कई देशों में जा कर आलराउंडर के रूप में अपना जलवा बिखेरा है । दूसरी ओर जनपद के तहसील मड़ियाहू क्षेत्र स्थित अजोसी गांव निवासी ओमप्रकाश यादव की पुत्री राधा यादव ने क्रिकेट की दुनिया में धमाल मचाते हुए विश्व कप के लिए भारतीय टीम का हिस्सा बन गयी है।

ये अपने पिता के साथ मुम्बई में रहती है हाई स्कूल की परीक्षा जौनपुर स्थित बांकी गांव के के एन सिंह इन्टर कालेज से किया इसके बाद क्रिकेट में इतना अधिक ब्यस्त हो गयी कि पढ़ाई छोड़ना पड़ा ।

ये भी पढ़ें-

राधा के परिजन बताते हैं कि वह बचपन से क्रिकेट अधिक रुचि रखती थी खेतों में बच्चों के साथ क्रिकेट खेलने में लगी रहती थी आज देश के लिए क्रिकेट खेलने हेतु उसका चयन हो गया है।

पान की दुकान चलाते थे पिता

राधा ग्रामीण क्षेत्र की बेटियों के लिए एक उदाहरण है इससे बेटियों का हौसला बढ़ेग। राधा के पिता ओमप्रकाश से बात करने पर उन्होंने बताया कि परिवार की आजीविका चलाने के लिए वह मुम्बई चले गये वहां पर सचिन तेंदुलकर के स्टेडियम के सामने पान की दुकान चलाने लगे।

वहीं पर बेटी राधा ने क्रिकेट की प्रैक्टिस में लगी रही पहले उसका चयन महाराष्ट्र की टीम में हुआ इसके बाद बड़ोदरा की टीम में बतौर कैप्टन क्रिकेट खेली है इसके बाद अब अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट खेलने के लिए भारतीय टीम का हिस्सा बन गयी है ।

तमाम लोग ने बधाई ज्ञापित कर रहे हैं

ये भी पढ़ें-

राधा के कोच प्रफुल्ल नायक है जिन्होंने कठिन परिश्रम करके राधा को इस योग्य बनाया है। राधा को राष्ट्रीय टीम में चयन होने पर उसके गांव अजोसी में जश्न का माहौल है । सगे सम्बंधियों सहित जनपद के तमाम लोग ने बधाई ज्ञापित कर रहे हैं ।

बतादे इसके पहले इस जनपद की तीन सगी बहनों ने बास्केटबॉल के खेल में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलते हुए जिले का नाम रोशन किया है अब क्रिकेट के खेल में भी जौनपुर का नाम दो बेटियों ने अपनी प्रतिभा से उंचाई पर स्थापित कर दिया है ।

वरिष्ठ पत्रकार पं.चन्द्रेश मिश्रा ने बात चीत के दौरान बताया कि बेटियां को यदि सुरक्षा और सुविधायें प्रदान किया जाये तो बेटो से अधिक जौहर बेटियां दिखा सकती है। शिक्षाविद डा. पीसी विश्वकर्मा से इस संदर्भ में बात करने पर उन्होंने कहा कि बेटियां अब हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का कौशल दिखाने में आगे निकल रही है।

जिला ही नहीं देश की और बेटियां इन दोनों बेटियों को आदर्श मानकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने घरों से बाहर निकल सकती है ।

Deepak Raj

Deepak Raj

Next Story