Top

उमा भारती बनेंगी व्यापारियों की वकील, वित्त मंत्री से करेंगी बात

Admin

AdminBy Admin

Published on 31 March 2016 8:34 AM GMT

उमा भारती बनेंगी व्यापारियों की वकील, वित्त मंत्री से करेंगी बात
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

झांसीः बुधवार को सर्किट हाउस पहुंची उमा भारती का सर्राफा व्यापारियों ने घेराव किया। केंद्रीय मंत्री ने सर्राफा व्यापारियों द्वारा किए जा रहे एक्साइज ड्यूटी व पैन कार्ड की अनिवार्यता के विरोध को जायज व इस कानून को खराब बताया। उन्होंने माना कि सर्राफा व्यापारियों की हड़ताल का पूरे देश में असर पड़ रहा है। उमा ने व्यापारियों को आश्वासन दिया कि वह उनकी ‘वकील’ के रूप में कैबिनेट की बैठक में और वित्त मंत्री से बात करेंगी।

व्यापारियों ने किया घेराव

-बुधवार को सर्राफा व्यापारी केंद्रीय मंत्री व क्षेत्रीय सांसद उमा भारती के नगर आगमन पर उनका घेराव करने के लिए सर्किट हाउस पहुंच गए।

-सर्राफा व्यापारियों ने क्षेत्रीय सांसद को बताया कि उनका काम कारीगर का है और यह काम एक्साइज ड्यूटी में नहीं आता है।

-इस कानून के लागू होने से उनका व्यापार करना मुश्किल हो जाएगा।

-इस पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सर्राफा व्यापारियों की हड़ताल का असर पूरे देश में व्यापक रूप से हो रहा है।

यह भी पढ़े...CM के दौरे से पहले अनशन पर बुंदेली समाज, बिजली बिल माफी की कर रहे मांग

-उनकी बात को वह पूरी मजबूती के साथ कैबिनेट के समक्ष रखेंगी।

-उमा से आश्वासन मिलने के बाद व्यापारियों ने इलाइट चौराहे पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया।

-इसमें प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री के चित्र पर पुष्प चढ़ाए गए।

इंतजार से व्यापारी हुए अक्रोशित

-सर्किट हाउस पहुंचने पर व्यापारी सभा कक्ष में एकत्र होकर क्षेत्रीय सांसद के आने का इंतजार करने लगे।

-भाजपा नेताओं ने कहा कि भोजन करने के उपरांत जल्द ही वह उनके बीच आएंगी।

-आधे घंटे बाद भी वह नहीं आई तो कुछ व्यापारी आक्रोशित होकर जाने लगे, तभी सूचना आई कि वह दवा खाकर आ रही हैं।

-इस पर व्यापारी फिर इंतजार करने लगे।

यह भी पढ़े...VIDEO: महोबा में ये भी देखना CM साहब. श्रम विभाग में हो रही बाल मजदूरी

-पंद्रह मिनट बाद भी जब वह नहीं आईं तो व्यापारी दुबारा आक्रोशित होकर जाने लगे।

-कुछ मिनटों बाद ही वह व्यापारियों के बीच आ गईं, इससे व्यापारियों का गुस्सा शांत हो गया।

-तबीयत ठीक न होने के कारण उन्होंने सभाकक्ष की जगह पोर्च में पहुंचकर व्यापारियों की बात सुनीं व ज्ञापन लिया।

Admin

Admin

Next Story